गणित के इन संकेतों (+ - × ÷) का आखिर किसने किया था अविष्कार, क्या आपको है इस बारे में कोई जानकारी

 
G

बच्चों को सबसे ज्यादा डर गणित से ही लगता है. लेकिन गणित के दीवानों की भी कमी नहीं है. आर्यभट्ट को भारत में गणित का सबसे बड़ा विद्वान माना जाता है, जिन्होंने गणित के कई सूत्र सूत्रों का आविष्कार किया. लेकिन क्या आप जानते हैं कि गणित के चिन्हों की खोज किसने की. अगर नहीं तो आज जान लीजिए.

G

जिन लोगों को नालंदा विश्वविद्यालय के कुलपति आर्यभट्ट के बारे में नहीं पता, वह लोग मिलेटस निवासी थेल्स को दुनिया का सबसे पहला गणितज्ञ मानते हैं. लेकिन जो लोग विश्वास करते हैं कि गणित के सबसे महत्वपूर्ण 0 का आविष्कार भारत के आर्यभट्ट ने किया, उनके लिए यह भी गर्व की बात होगी कि गणित के संकेतों का आविष्कार भी भारत में ही हुआ था.

यह आविष्कार महान गणितज्ञ श्री ब्रह्म गुप्त ने किया. श्री ब्रह्म गुप्त का जन्म 598CE में हुआ था. ब्रह्म गुप्त ने ही उस समय उपलब्ध गणित के सभी विशेषज्ञों के आविष्कारों और सूत्रों को पढ़ा और उनसे जो प्रश्न निकले, उनके उत्तर की तलाश की, जिसमें कई आविष्कार हुए.

शून्य का आविष्कार आर्यभट्ट ने किया हो, लेकिन गणित में इसका इस्तेमाल कहां, कैसे और कितने प्रकार से किया जा सकता है, यह दुनिया को ब्रह्म गुप्त ने ही सिखाया. ब्रह्म गुप्त ने ही अंकगणित और बीजगणित बनाया. इसी दौरान गणित के संकेतों का भी आविष्कार हुआ.

From around the web