नोटबंदी में बैन हुए 15.28 लाख करोड़ के 500-1000 के पुराने नोटों का क्या हुआ? यहां जानिए 

 
MSKLK

2016 में नोटबंदी के दौरान 500-1000 के पुराने नोटों को बंद कर दिया गया था अब यह नोट कहां गए, क्या इस बारे में आप जानते हैं. आरबीआई ने 30 जून 2017 को जारी किए अपने प्रारंभिक आकलन में 500 और 1000 के पुराने नोटों का कुल मूल्य 15.28 लाख करोड रुपए बताया था. 

जब पीटीआई के पत्रकार ने सूचना का अधिकार के तहत आरबीआई से यह सवाल किया कि इन बंद किए गए नोटों का आखिर क्या हुआ तो. इसके जवाब में आरबीआई ने बताया था कि इन नोटों का नियमों के मुताबिक विघटन किया जाता है. यह नोट वापस बाजार में नहीं लाए जाते.

कैसे होता है नोटों का विघटन 

केंद्रीय बैंक ने तब बताया था कि इन नोटों की वेरिफिकेशन एंड प्रोसेसिंग सिस्टम के बाद उनका ब्रिकेट सिस्टम के जरिए ब्रिक्स तैयार किया जाएगा. पहले चरण में यह देखा जाता है कि करेंसी नष्ट करने के लायक हैं या नहीं. फिर दूसरे चरण में श्रेडिंग ब्रिकेट सिस्टम के जरिए नोटों को मशीन की मदद से महीन कतरनों में बदला जाता है. इन कतरनों को फिर से कम्प्रेस कर ब्रिक्स की शेप दी जाती है. 

नोट के कतरन को दी जाती है चौकोर ईंट की शक्ल 

नोटों को काटने और ब्रिकेटिंग प्रणाली में इन्हें काटकर उन्हें ब्रिकेट में परिवर्तित किया जाता है. इन्हें दबाकर चौकोर ईंट की शक्ल में बदल दिया जाता है तो टेंडर के माध्यम से इनका निस्तारण कर दिया जाएगा. मीडिया रिपोर्ट की मानें तो इन ब्रिक्स से फाइल कवर, कार्डबोर्ड जैसी चीजें भी बनाई जाती हैं.

From around the web