इस शख्स ने बंजर जमीन पर उगाए 700 से ज्यादा पेड़, बना डाली पानी की 5 सुरंगें

 
इस शख्स ने बंजर जमीन पर उगाए 700 से ज्यादा पेड़, बना डाली पानी की 5 सुरंगें

आज हम आपको कर्नाटक के उस शख्स के बारे में बता रहे हैं जिन्होंने बंजर जमीन पर 700 से ज्यादा पेड़ उगाए और साथ ही पांच पानी की सुरंग में भी बना डाली. हम कर्नाटक के जिला मंगलुरू के करीब एक छोटे से गांव में रहने वाले किसान महालिंगम नायक की बात कर रहे हैं, जिन्हें लोग वन मैन आर्मी के रूप में भी जानते हैं.

1978 में नायक एक मजबूर थे और खेत पर काम करते थे. यहां पर पाम ट्री और नारियल के पेड़ों की खेती होती थी. उस समय नायक के पास कुछ नहीं था. उनका घर भी नहीं था. तभी खेत के मालिक ने उन्हें एक जमीन गिफ्ट में दे दी. उन्हें जो जमीन मिली थी, वह पूरी तरह से बंजर थी और वहां पानी का कोई साधन नहीं था. इंटरव्यू में नायक ने बताया था कि काम के प्रति उनकी लगन देखकर उन्हें यह जमीन गिफ्ट में दी गई थी. उनका सपना इस बंजर और पहाड़ी जमीन पर सुपारी की खेती करना था. लेकिन यहां पर वनस्पतियां ना के बराबर थी.

जब लोगों को पता चला कि उन्हें बंजर जमीन गिफ्ट में मिली है तो सब ने उनका मजाक उड़ाया. हालांकि नायक ने उस जमीन पर सबसे पहले अपने परिवार के लिए एक छोटी सी झोपड़ी तैयार की. फिर उन्होंने यहां पानी की व्यवस्था करने की सोची, जिसके लिए उन्होंने कुआं खोदने का फैसला किया. नायक का घर पहाड़ पर था. उन्होंने पहाड़ की दिशा में ही कुआं खोदना शुरू किया. वह हर रोज अपने मालिक के खेतों पर मजदूरी करते और फिर सुरंग खोदने का काम करते, जिसके बाद अपने घर लौटते.

सुरंग काफी संक्रीर्ण थी, जिस वजह से उन्हें रैंगकर जाना पड़ता था. वह अपने पैरों के बीच में लैंप को फंसाते थे और फिर मिट्टी खोदने का काम करते थे. वह एक दिन 6 घंटे तक इसी तरह से काम करते थे. गांव वाले उनका खूब मजाक उड़ाते थे. ऐसा करते करते 5 साल हो गए. हालांकि उनकी यह सुरंग ढह गई, जिसके बाद उन्होंने दूसरी सुरंग खोदना शुरू किया और फिर भी पानी का कोई निशान नहीं मिला. इस तरह उनकी चार सुरंगे असफल हो गई. लेकिन जब वह पांचवीं सुरंग खोद रहे थे तो उन्हें सफलता मिली.

35 मीटर तक पहुंचने के बाद उन्हें पानी मिल गया. इस सुरंग को उन्होंने घर तक जोड़ा. जब बहुत गर्मी होती थी तो नायक को 6000 लीटर तक पानी 1 दिन में मिलता था. यह पानी सीमेंट के एक टैंक की तरफ बहता, जिसमें इकट्ठा होता रहता था. इस तरह उन्होंने बंजर जमीन पर खेती करना शुरू कर दिया. नायक इस्तेमाल किए हुए पानी को भी इकट्ठा करते थे. इस तरह 35 साल से ज्यादा समय तक नायक और उनकी पत्नी बंजर जमीन पर रहे. लेकिन अब उन्हें काफी फायदा हो रहा है. नायक ने 37 वर्षों में यहां पर 700 से ज्यादा पेड़ लगाए हैं और पानी की पांच सुरंग बना डाली हैं.

From around the web