चल रहा था बच्चे की सर्दी-खांसी का इलाज, लेकिन अचानक लगा कांपने तो डॉक्टर ने बताया- उसे तो....

 
ल

सर्दी-खांसी, बुखार आना किसी भी बच्चे के लिए आम सी बात है. लेकिन यह बीमारी 5 हफ्ते के ओलिवर के लिए खतरनाक साबित हो गई. डॉक्टर ने ओलिवर की बीमारी के बारे में जब उसके माता-पिता को बताया तो उनके पैरों तले जमीन ही खिसक गई. बच्चे को जो बीमारी है उसे साइलेंट किलर तक कहा जाता है.

ब

साइ और क्रिस्टीना ग्रेगरी अपने बच्चे ओलिवर को सर्दी के इलाज के लिए डॉक्टर के पास गए. डॉक्टर ने बच्चे को सर्दी खांसी की दवा दे दी और उसे नोजल स्प्रे देकर वापस घर भेज दिया. लेकिन आधी रात को अचानक से ओलिवर की तबीयत और बिगड़ गई और वह कांपने लगा. काफी देर तक उसकी तबीयत में सुधार नहीं हुआ तो पिता ने एंबुलेंस को बुलाया और उसे हॉस्पिटल लेकर गए.

ब

हॉस्पिटल ले जाने के बाद पता चला कि बच्चा सेप्सिस बीमारी का शिकार है और उसको इलाज की जरूरत है. बच्चे को कई दिन तक हॉस्पिटल में रखा गया और उसका इलाज चला. अब ओलिवर दो साल का हो गया है और पूरी तरह से स्वस्थ है. लेकिन आज उसके पिता उन दिनों को नहीं भूले हैं. सेप्सिस को साइलेंट किलर माना जाता है. यह तेजी से आता है और हर घंटे और भी ज्यादा खतरनाक हो जाता है.

इस बीमारी की वजह से संक्रमण तेजी से फैलता है जिस वजह से शरीर के सेल्स तेजी से खराब होने लगते हैं. सेप्सिस की वजह से सांस लेने में दिक्कत, हार्ट रेट बढ़ना, कंपकपी, बुखार, ठंड लगना, बेचैनी, तेज पसीना आना जैसी समस्याएं होती हैं. ब्रिटेन में हर साल सेप्सिस के 25,000 मामले सामने आते हैं. लोगों को इसके लक्षणों के बारे में पता होना बहुत जरूरी है.

From around the web