सेब के बीजों में पाया जाता है सायनाइड, लेकिन उसे खाने से नहीं होती किसी की मृत्यु, आखिर क्यों?

 
vvx

जैसा कि आप सभी जानते होंगे कि सायनाइड दुनिया का सबसे खतरनाक जहर है. ऐसा कहा जाता है कि सायनाइड को जीभ पर रखने से ही मनुष्य की मृत्यु हो जाती है. आज तक कोई भी साइनाइड का स्वाद नहीं बता पाया है. एक विज्ञान की किताब में बताया गया है कि सेब के बीज में जहरीला यौगिक साइनाइड पाया जाता है. लेकिन सवाल यह उठता है कि जब सेब के बीच में सायनाइड होता है तो इसे खाने से भी किसी की मृत्यु क्यों नहीं होती. 

अंग्रेजी में एक कहावत है an apple a day keeps doctor away, यानी आप प्रतिदिन एक सेब का फल खाते हैं तो आपको डॉक्टर के पास जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी. क्योंकि आप कभी भी बीमार नहीं पड़ेंगे. सेब में एक स्वस्थ मनुष्य के लिए पर्याप्त मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट और बीमारियों से लड़ने वाले तत्व मौजूद होते हैं. सेब में कुछ ऐसे भी तत्व पाए जाते हैं जिस कारण शरीर में नई कोशिकाओं का निर्माण होता है. इसलिए सेब को जादुई फल भी कहा जाता है और यह दुनिया में सबसे ज्यादा खाया जाने वाला फल भी है. 

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम यूनिवर्सिटी , उत्तर प्रदेश से इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले एक छात्र अनुज जायसवाल ने बताया कि के सेब के बीजों में वही साइनाइट पाया जाता है जिसका उपयोग नाजियों ने अपने विरोधी विचारधारा को लोगों को मारने के लिए किया था. लेकिन फिर भी सेब के बीज खाने से किसी भी मनुष्य की मृत्यु नहीं होती. 

क्योंकि पूरे सेब फल के बीजों में 0.06 से 0.24 मिलीग्राम साइनाइड होता है, जो कि शरीर मनुष्य के शरीर पर असर करने के लिए बहुत ही कम है, यदि कोई भी मनुष्य ज्यादा मात्रा में सेब के बीजों का सेवन करता है तो उसे सिर दर्द, उल्टी, मतली, पेट में ऐठन, कमजोरी, चक्कर आना और मानसिक भ्रम जैसी बीमारियां हो सकती हैं.

From around the web