लाखों की तादाद में डिवाइस पर मंडरा रहा खतरा, Bluetooth के माध्यम से हैक हो रहा लोगों का डेटा..

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि इस पर में बढ़ते डिजिटलाइजेशन के चलते आज का अच्छाईयों के साथ साथ डिजिटल चीजों में कई खामियां भी देखने को मिल रहे हैं। ऐसे में ब्लूटूथ आजकल हमारे डिवाइस का एक महत्वपूर्ण हिस्सा जैसा है। यह डिवाइस को कनेक्ट रहने और डाटा ट्रांसफर करने में काफी सहायता
 
लाखों की तादाद में डिवाइस पर मंडरा रहा खतरा, Bluetooth के माध्यम से हैक हो रहा लोगों का डेटा..
जैसा कि आप सभी जानते हैं कि इस पर में बढ़ते डिजिटलाइजेशन के चलते आज का अच्छाईयों के साथ साथ डिजिटल चीजों में कई खामियां भी देखने को मिल रहे हैं। ऐसे में ब्लूटूथ आजकल हमारे डिवाइस का एक महत्वपूर्ण हिस्सा जैसा है।
लाखों की तादाद में डिवाइस पर मंडरा रहा खतरा, Bluetooth के माध्यम से हैक हो रहा लोगों का डेटा..यह डिवाइस को कनेक्ट रहने और डाटा ट्रांसफर करने में काफी सहायता करता है, लेकिन इससे इस रिपोर्ट के अनुसार बताया गया है कि ब्लूटूथ सपोर्टेड डिवाइसेज पर बड़ा खतरा देखा जा रहा है। रिपोर्ट में Blurtooth के बारे में बात की गई है जो कि देश को प्रभावित करने वाली एक नई खामी है।
इस परेशानी की वजह से हटा कर दो ब्लूटूथ डिवाइस के बीच की सिक्योरिटी की चीजें को एक्सेस कर सकता है। ऐसा करने के बाद रहे Bluetooth device को अपने आसपास कनेक्ट कर लेता है। इस परेशानी को क्रॉस ट्रांसपोर्ट की डेरिवेशन की एक रिपोर्ट और टू डिवाइस के बीच ऑथेंटिकेशन की सेटअप करने वाला कंपोनेंट इसके लिए जिम्मेदार होता है।
आपको बता दें कि डिवाइसेज ऑथेंटिकेशन की किया सहायता से डिवाइस तय कर सकते हैं कि उन्हें किस ब्लूटूथ स्टैंडर्ड से कनेक्ट होना है। वहीं Blurtooth के साथ अटैकर्स कमजोरी का फायदा उठाकर CTKD को कंट्रोल कर सकते हैं।
इसके बाद अटैक कर सकता और इक्वेशन की ओवरराइट करके दो डिवाइस इस के बीच इंक्रिप्शन को भी कमजोर कर सकते हैं। इसके बाद टारगेट प्राइस पर मेलीशियस डाटा ब्लूटूथ की मदद से भेजा जा सकता है और उसके बीच में हो रहा डेटा एक्सिस भी किया जा सकता है।

From around the web