1000, 2000 किलो नहीं होता AC का वजन, फिर इसे 1 टन-2 टन एसी क्यों कहा जाता है? आज जान लीजिए वजह

 
1000, 2000 किलो नहीं होता AC का वजन, फिर इसे 1 टन-2 टन एसी क्यों कहा जाता है? आज जान लीजिए वजह

गर्मी का मौसम आते ही लोगों को AC की जरूरत महसूस होने लगी है. जब भी AC खरीदना हो तो आपसे पूछा जाता है कि आपको किस ब्रांड का एसी लेना है. विंडो एसी लेना है या स्प्लिट एसी लेना है. आपका बजट क्या है. लेकिन आपसे एक और सवाल भी पूछा जाता है कि आपको कितने टन का एसी लेना है. एसी का वजन 1 टन-2 टन तो नहीं होता फिर AC को 1 टन, 2 टन क्यों कहा जाता है. आज जान लीजिए.

एसी में क्या होता है टन का मतलब 

वैसे 1 टन में 907.18 किलोग्राम होते हैं. लेकिन AC मेंं टन का मतलब अलग होता है. एसी में टन का मतलब उससे आपको मिलने वाली ठंडक से होता है. यानी घर को ठंडा करने की उर्जा से. जितना ज्यादा टन का एसी होगा, उतने बड़े क्षेत्रफल को ज्यादा ठंडा करने की AC की क्षमता होगी. मतलब 1 टन वाला एसी 1 टन बर्फ के जितनी ठंडक देगा, जबकि 2 टन का एसी 2 टन बर्फ के बराबर कूलिंग करेगा.

इसका सीधा संबंध कमरे के साइज से होता है.अगर आप का कमरा 10 बाई 10 यानी 100 स्क्वायर फीट का है तो आपको 1 टन एसी की जरूरत होगी. वही 200 स्क्वायर फीट से कम के कमरे के लिए 1.5 टन एसी और 2 स्क्वायर फीट से ज्यादा के कमरे के लिए 3 टन का एसी बढ़िया रहेगा.

From around the web