गुरु सहित इन  लोगों का भी पिता की तरह रखना चाहिए मान ; चाणक्य 

 
cha

आचार्य चाणक्य मुताबिक आपके जीवन को सुख में और उज्जवल बनाने के लिए एक पिता अपने दिन रात एक कर देता है इसलिए सदैव अपने पिता को सम्मान करें नीति शास्त्र में पिता के अलावा भी 4 लोग आए थे बताए गए हैं जिनका सदैव पिता के समान सम्मान करना चाहिए तो चलिए हम आपको बताते हैं ऐसे ही 4 लोगों के बारे में।

cha

किसी भी व्यक्ति के जीवन में गुरु का स्थान हमेशा पिता के समान होता है जहां पिता अपनी संतान का भविष्यवाणी के लिए दिन रात मेहनत करता है तो वहीं गुरु अपने ज्ञान से उसका भविष्य संवारता है।

यदि आप अपने घर से दूर प्रदेश में हैं उसी स्थान पर जहां जो व्यक्ति आपके खाने पीने रहने की व्यवस्था करता है और अनुसार में स्थान पर आपका ध्यान रखता है। ऐसे में यदि आपके जीवन में कोई भी व्यक्ति होता है तो सदैव का एहसास रखना चाहिए और हमेशा उसका सम्मान करना चाहिए।

संकट आने पर एक पिता अपनी संतान किया प्रकार की रक्षा करता है इस तरह भी संकट की घड़ी में कोई व्यक्ति हमारे प्राण बचाता है वह एक तरह से हमारे पिता के समान होता है इसलिए जो व्यक्ति अपने प्राणों की रक्षा करें उसे कभी भी नहीं भूलना चाहिए
 

From around the web