बेलपत्र चढ़ाने से महादेव होते हैं बेहद जल्दी प्रसन्न, दूर करते हैं सारे दुःख और संकट 

 
err

हिंदी पंचांग के मुताबिक सावन का महीना 25 जुलाई साल 2021 से शुरू हो रहा है श्रावण मास भगवान शिव को बेहद प्रिय है कहा जाता है कि महादेव सावन मास में भक्तों की पूजा से बहुत जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं। इस कारण पूरे सावन भर लोग महादेव की विधि विधान के साथ पूजा अर्चना करते हैं। और उनकी पसंदीदा चीजें उनको अर्पित करते हैं। जिससे वह अपने भक्तों पर अति प्रसन्न होकर उनके सारे दुखों को हर लेते हैं उन्हीं चीजों में से एक है बेलपत्र जो महादेव को बेहद प्रिय है।

err

धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक बिना बेलपत्र चढ़ाए भगवान शिव की पूजा पूरी नहीं मानी जाती है। ऐसी मान्यता है कि शिवलिंग पर बेलपत्र अर्पित करने से महादेव जल्दी ही प्रसन्न हो जाते हैं।

माना जाता है कि बिल पत्र अविष्कारक होती है पौराणिक कथा के मुताबिक समुद्र मंथन में निकले विष्णु भगवान शिव द्वारा पीने के बाद उनका शरीर अत्यधिक गर्म हो गया था तब भी भी भी तो शिव को शांत करने के लिए बेलपत्र खिलाया था और पानी से नहलाया गया था तब जाकर भगवान शिव के शरीर की गर्मी से राहत मिली थी। तभी से भगवान महादेव को बेलपत्र करने की प्रथा चल पड़ी है पर चढ़ाते समय कुछ बातों का जरूर ध्यान रखना चाहिए।

शिवलिंग पर हमेशा तीन पत्तियां वाला बेलपत्र चढ़ाना चाहिए। बेलपत्र कहीं से कटा फटा नहीं होना चाहिए बेलपत्र चढ़ाने से पहले उसे खूब अच्छी तरह से साफ पानी से धो लेना चाहिए। उसके बाद भगवान शिव को बेलपत्र अर्पित करना चाहिए। 
 

From around the web