स्पुतनिक के सिंगल-डोज वैक्स को भारत में तीसरे चरण के परीक्षणों के लिए डीसीजीआई की मंजूरी मिली

 
स्पुतनिक के सिंगल-डोज वैक्स को भारत में तीसरे चरण के परीक्षणों के लिए डीसीजीआई की मंजूरी मिलीनई दिल्ली, 15 सितम्बर (आईएएनएस)। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने भारतीय लोगों पर स्पुतनिक लाइट के तीसरे चरण के ब्रिजिंग ट्रायल के संचालन की अनुमति दे दी है। स्पुतनिक लाइट रूसी वैक्सीन स्पुतनिक की सिंगल-खुराक वाली कोविड -19 वैक्सीन है।

मेडिकल जर्नल द लैंसेट में हाल ही में प्रकाशित एक अध्ययन के बाद यह मंजूरी आई है, जिसमें कहा गया है कि स्पुतनिक लाइट ने कोविड -19 के खिलाफ 78.6 से 83.7 प्रतिशत प्रभावकारिता दिखाई, जो कि अधिकांश दो-शॉट टीकों की तुलना में काफी ज्यादा है।

जुलाई में केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की विषय विशेषज्ञ समिति ने देश में रूसी टीके के तीसरे चरण के परीक्षण की आवश्यकता को खारिज करते हुए, स्पुतनिक-लाइट को आपातकालीन-उपयोग प्राधिकरण देने से इनकार कर दिया था।

समिति ने नोट किया कि स्पुतनिक लाइट स्पुतनिक वी के घटक-1 के समान था और भारतीय आबादी में इसकी सुरक्षा और इम्यूनोजेनेसिटी डेटा पहले से ही एक परीक्षण में तैयार किया गया था।

अध्ययन अर्जेंटीना में कम से कम 40,000 बुजुर्गों पर आयोजित किया गया। अध्ययन में कहा गया है कि स्पुतनिक लाइट ने लक्षित आबादी के बीच अस्पताल में भर्ती होने की संख्या को 82.1-87.6 प्रतिशत तक कम कर दिया।

रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (आरडीआईएफ) ने पिछले साल भारत में स्पुतनिक वी वैक्सीन के तीसरे चरण के परीक्षण के लिए डॉ रेड्डीज लैबोरेटरीज के साथ भागीदारी की थी। अप्रैल में, स्पुतनिक वी को भारत में एक आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण प्राप्त हुआ। रेड्डीज ने 14 मई को एक सीमित पायलट के तहत हैदराबाद में टीके की पहली खुराक दी।

--आईएएनएस

एसएस/आरजेएस

From around the web