दिल्ली के अस्पताल में बेड नहीं मिलने से मरीज की मौत

 
दिल्ली के अस्पताल में बेड नहीं मिलने से मरीज की मौतनई दिल्ली, 1 मई (आईएएनएस)। लोक नायक अस्पताल के बाहर एक 34 वर्षीय व्यक्ति की बेड न मिलने से मौत हो गई। अस्पताल में बेड उपलब्ध नहीं था, इसलिए डॉक्टरों ने उन्हें अस्पताल में भर्ती नहीं किया।

मोहम्मद कासिम को उसकी पत्नी और पड़ोसी एम्बुलेंस से उन्हें लेकर शुक्रवार को अस्पताल आए थे, जहां उन्होंने आखिरी सांस ली। वह लक्षण होने के बावजूद कोविड टेस्ट नहीं करवा पाए थे।

गाडरें ने एम्बुलेंस को अंदर जाने दिया, लेकिन डॉक्टर ने उन्हें तुरंत एडमिट नहीं किया। 10 मिनट के भीतर, कासिम खांसने लगा और उसकी मौत हो गई। उसकी पत्नी रूबीना मदद के लिए चिल्लाई और अन्य लोग भी वहां इकट्ठे हो गए। लोगों ने कासिम को कम से कम ऑक्सीजन सिलेंडर लगाने की मांग की। बाद में डॉक्टरों ने कासिम को बचाने की कोशिश की, लेकिन वह मर चुके थे। उनके शव को वापस रोहिनी उनके घर ले जाया गया।

रुबीना ने कहा, मैंने सब कुछ खो दिया है। हम कल से अस्पताल के बेड की तलाश कर रहे हैं। हमें बताया गया था कि लोगों को यहां से छुट्टी दे दी गई है, यहां बिस्तर भी हो सकते हैं। हम कोविड का टेस्ट भी नहीं करा सके। मैं अपने बच्चों को कैसे बताऊंगा कि उनके पिता मर चुके हैं?

कासिम की तरह कई मरीजों को विभिन्न सरकारी अस्पतालों के साथ-साथ निजी अस्पतालों में भी बेड नहीं मिल रहे हैं। असहाय होकर वे अस्पतालों के बाहर बैठकर प्रतीक्षा करते हैं। इनमें से कई को पहले ही शहर में बेड और ऑक्सीजन सिलेंडर देने से मना कर दिया गया है।

--आईएएनएस

आरएचए/आरजेएस

From around the web