दिल्ली के अस्पताल में ऑक्सीजन संकट के कारण डॉक्टर, 7 अन्य की मौत

 
दिल्ली के अस्पताल में ऑक्सीजन संकट के कारण डॉक्टर, 7 अन्य की मौतनई दिल्ली, 1 मई (आईएएनएस)। दिल्ली के बत्रा अस्पताल में शनिवार की दोपहर में मेडिकल ऑक्सीजन की कमी के कारण इलाज के दौरान एक चिकित्सक सहित आठ कोविड-19 मरीजों की मौत हो गई।

बत्रा अस्पताल में एक सप्ताह में दूसरी बार मेडिकल ऑक्सीजन की कमी के कारण मौतें होने की घटना हुई है। इस अस्पताल को 24 अप्रैल को ऑक्सीजन भंडार खत्म होने से आखिरी एक मिनट पहले ऑक्सीजन सिलिंडरों की आपूर्ति की गई थी।

शनिवार को दोपहर करीब 12.45 बजे ऑक्सीजन बिल्कुल खत्म हो गई, जिससे यह हादसा हुआ। बत्रा अस्पताल दिल्ली के महरौली इलाके में है।

मरने वालों में अस्पताल के गैस्ट्रोएंटेराइटिस विभाग के प्रमुख डॉ. आर.के. हिमथानी (62) भी शामिल हैं। आठ में से छह मरीज अस्पताल की गहन चिकित्सा इकाई (आईसीयू) में और दो अन्य वार्ड में भर्ती थे।

दोपहर करीब 12.30 बजे, अस्पताल ने दावा किया कि तरल चिकित्सा ऑक्सीजन का स्टॉक खाली हो चुका है, इसलिए वार्डो में पाइप के जरिए की जा रही ऑक्सीजन की आपूर्ति ठप हो गई है। इसके बाद 15 मिनट के अंदर आठ मरीजों की सांस थम गई। हादसे के बाद दोपहर 1.35 बजे के आसपास एक ऑक्सीजन टैंकर अस्पताल पहुंचा।

अस्पताल के अधिकारियों ने दिल्ली उच्च न्यायालय को बताया कि शहर के ऑक्सीजन संकट मामले की चल रही सुनवाई के 11वें दिन टैंकर दोपहर लगभग 1.30 बजे अस्पताल पहुंचा। तब तक लगभग 230 गंभीर मरीज लगभग 80 मिनट बिना ऑक्सीजन के रहे।

अस्पताल ने अदालत को बताया, 12.45 बजे ऑक्सीजन खत्म हो गई। आपूर्ति 1.30 बजे हुई। हम 1 घंटे और 20 मिनट तक मरीजों को ऑक्सीजन सपोर्ट नहीं दे पाए।

अस्पताल में 327 मरीज हैं, जिनमें से 48 क्रिटिकल केयर यूनिट में हैं। ऑक्सीजन की आपूर्ति के घटते स्तर को लेकर चेतावनी शनिवार दोपहर में दी गई।

इससे पहले, शनिवार को पोस्ट किए गए एक वीडियो एसओएस में, बत्रा अस्पताल के कार्यकारी निदेशक डॉ. सुधांशु बनकटा ने कहा था, हमारे यहां ऑक्सीजन खत्म हो गई है .. इस समय कुछ ही सिलेंडरों में बची है। अगले 10 मिनट में वह भी खत्म हो जाएगी। हम फिर संकट में हैं। दिल्ली सरकार मदद करने की कोशिश कर रही है, लेकिन उनका टैंकर कुछ दूरी पर है।

इस महीने की शुरुआत में, रोहिणी स्थित जयपुर गोल्डन अस्पताल के क्रिटिकल केयर युनिट में भर्ती 20 लोगों की मौत ऑक्सीजन का का स्तर गिरने से हो गई थी। दिल्ली उच्च न्यायालय के समक्ष अस्पताल ने दिल्ली सरकार को ऑक्सीजन पहुंचाने में देरी के लिए दोषी ठहराया था।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

From around the web