इस दिग्गज क्रिकेटर ने लाइव मैच के दौरान की थी खेल भावना की हत्या, हुआ था क्रिकेट इतिहास का सबसे बड़ा धोखा

इस दिग्गज क्रिकेटर ने लाइव मैच के दौरान की थी खेल भावना की हत्या, हुआ था क्रिकेट इतिहास का सबसे बड़ा धोखा
 
इस दिग्गज क्रिकेटर ने लाइव मैच के दौरान की थी खेल भावना की हत्या, हुआ था क्रिकेट इतिहास का सबसे बड़ा धोखा

क्रिकेट हो या अन्य कोई खेल हर जगह खिलाड़ी को खेल भावना दिखानी चाहिए. क्रिकेट के मैदान पर कई ऐसी घटनाएं हुई जहां खिलाड़ियों ने खेल भावना नहीं दिखाई और इस कारण इन खिलाड़ियों की काफी आलोचना भी हुई. आज हम आपको उस क्रिकेटर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने लाइव मैच के दौरान ही खेल भावना की हत्या कर दी थी. इस क्रिकेटर ने क्रिकेट इतिहास का सबसे बड़ा धोखा किया था. 

इस दिग्गज क्रिकेटर ने लाइव मैच के दौरान की थी खेल भावना की हत्या, हुआ था क्रिकेट इतिहास का सबसे बड़ा धोखा

हम बात कर रहे हैं इंग्लिश पूर्व इंग्लिश क्रिकेटर थामे टोनी ग्रेग की. 1974 में वेस्टइंडीज और इंग्लैंड के बीच पहले टेस्ट के दूसरे दिन का खेल खेला जा रहा था. वेस्टइंडीज के बल्लेबाज बर्नाड जूलियन ने दूसरे दिन के खेल की आखिरी गेंद को हल्के हाथों से खेला. दूसरे छोर पर 142 रन बनाकर नाबाद एल्विन कालीचरण थे, जो कि खेल समाप्त होने के बाद पवेलियन की ओर लौटने लगे. लेकिन उसी समय इंग्लिश गेंदबाज टोनी ग्रेग ने कालीचरण के छोर पर थ्रो मारा जो कि स्टांप पर जाकर लगा. 

जब अंपायर से अपील की गई तो कालीचरण को अंपायर ने आउट दिया. टोनी ग्रेग की यह हरकत खेल भावना के बिल्कुल उलट थी, क्योंकि बल्लेबाज की मनसा रन बनाने की नहीं थी. इसके बाद काफी हंगामा हुआ .कालीचरण को रन आउट करने के बाद टोनी ग्रेग खुशी से ड्रेसिंग रूम की तरफ भागे. लेकिन इंग्लिश खिलाड़ी इससे ज्यादा खुश नहीं हुए थे. हालांकि अंपायर ने भी खेल खत्म करने का ऐलान नहीं किया था. ऐसे में उन्हें कालीचरण को आउट देना पड़ा.

From around the web