यह है देश का सबसे खास बाजार, जहां 4 हजार से ज्यादा हैं दुकानें, लेकिन पुरुषों को नहीं है व्यापार की इजाजत

यह है देश का सबसे खास बाजार, जहां 4 हजार से ज्यादा हैं दुकानें, लेकिन पुरुषों को नहीं है व्यापार की इजाजत
 
यह है देश का सबसे खास बाजार, जहां 4 हजार से ज्यादा हैं दुकानें, लेकिन पुरुषों को नहीं है व्यापार की इजाजत

आपने कई तरह के मार्केट देखे होंगे. बाजार में मिलने वाले सामानों के आधार पर मार्केट बांटे जाते हैं. लेकिन हम आपको एक ऐसे मार्केट के बारे में बता रहे हैं जिसमें करीब चार हजार से ज्यादा दुकानें हैं. लेकिन यहां कोई भी पुरुष अपनी दुकान नहीं लगा सकता. यहां केवल महिलाएं ही दुकान लगाती हैं और कारोबार करती हैं.

यह है देश का सबसे खास बाजार, जहां 4 हजार से ज्यादा हैं दुकानें, लेकिन पुरुषों को नहीं है व्यापार की इजाजत

खास बात तो यह है कि यह एशिया का सबसे बड़ा मार्केट है. मणिपुरी में इसे इमाकैथिल मार्केट कहते हैं, जिसे मदर्स मार्केट के नाम से भी जाना जाता है. यहां 4000 से ज्यादा महिलाएं कारोबार कर रही हैं. यह कई सदियों पुराना मार्केट है और यहां महिलाएं ही व्यापार करती हैं. 500 साल पहले इसकी शुरुआत हुई थी. 

यह भी कहा जाता है कि जब मैती कम्यूनिटी के आदमी महीनों तक जंग के लिए घर से बाहर रहते थे तो महिलाओं ने उस समय घर को संभाला था और परिवार के पालन के लिए काम करना शुरू किया. धीरे-धीरे बाजार बढ़ता गया और अब यहां 4000 से ज्यादा महिलाएं अपनी दुकान चलाती हैं. इस बाजारों में रोजमर्रा के सामान जैसे- सब्जी, कपड़े, क्लासिक आइटम सब कुछ मिलता है. यहां दुकान चलाने वाली महिलाएं सालाना 75 हजार से 3 लाख रुपये तक कमा लेती हैं.

From around the web