कपिल देव के नाम दर्ज है विश्व का वो अनोखा रिकॉर्ड, जो आज तक नहीं तोड़ पाया है कोई

कपिल देव के नाम दर्ज है विश्व का वो अनोखा रिकॉर्ड, जो आज तक नहीं तोड़ पाया है कोई
 
कपिल देव के नाम दर्ज है विश्व का वो अनोखा रिकॉर्ड, जो आज तक नहीं तोड़ पाया है कोई

टेस्ट क्रिकेट इस खेल का सबसे पुराना फॉर्मेट है. टेस्ट में अच्छा प्रदर्शन कर पाना हर खिलाड़ी के बस की बात नहीं होती है. जो खिलाड़ी टेस्ट में अच्छा प्रदर्शन करने में कामयाब हो जाते हैं, उन्हें महान खिलाड़ियों में शामिल किया जाता है. आज हम आपको विश्व के इकलौते खिलाड़ी के बारे में बताने वाले हैं जिसने टेस्ट में 400 विकेट लिए और 4000 से ज्यादा रन बनाए. आइए जानते हैं कौन है वो खिलाड़ी.

कपिल देव के नाम दर्ज है विश्व का वो अनोखा रिकॉर्ड, जो आज तक नहीं तोड़ पाया है कोई

ये कारनामा करने वाला खिलाड़ी कोई और नहीं भारत के पूर्व महान ऑलराउंडर कपिल देव है.  कपिल देव की कप्तानी में भारत ने 1983 वर्ल्ड कप जीता. बता दें कि कपिल देव अभी भी टेस्ट में 4000 रन और 400 विकेट लेने वाले दुनिया के एकमात्र क्रिकेटर हैं. कपिल देव ने अक्टूबर, 1978 में पाकिस्तान के विरुद्ध अंतरराष्ट्रीय डेब्यू मैच खेला था. 

कपिल देव ने अपने 16 साल के लंबे क्रिकेट करियर में 131 टेस्ट मैच खेले और 5248 रन बनाए. इस दौरान उन्होंने टेस्ट में 434 विकेट भी हासिल किए. कपिल देव की गिनती दुनिया के बेहतरीन ऑलराउंडरों में की जाती थी. कपिल देव के समय में रिचर्ड हैडली, इमरान खान जैसे बेहतरीन खिलाड़ी थे. लेकिन फिर भी कपिल देव ने अपना दबदबा कायम रखा. 

जब भारतीय टीम 1983 के वनडे वर्ल्ड कप में इंग्लैंड विश्व कप में हिस्सा लेने गई थी, तबकिसी ने भी नहीं सोचा था कि टीम इंडिया चैंपियन बनकर लौटेगी. फाइनल में वेस्टइंडीज को हराकर टीम इंडिया ने यह मुकाबला जीता था और रिकॉर्ड बुक में भी अपना नाम दर्ज कराया था. कपिल देव को क्रिकेट से संन्यास लिए हुए कई दशक हो गए हैं. कपिल देव के बाद 28 साल महेन्द्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने अपने घर पर दूसरी बार वर्ल्ड कप का खिताब जीता.

From around the web