टेस्ट क्रिकेट इतिहास का इकलौता गेंदबाज, जिसने किया था दोनों पारियों में हैट्रिक लेने का कमाल

टेस्ट क्रिकेट इतिहास का इकलौता गेंदबाज, जिसने किया था दोनों पारियों में हैट्रिक लेने का कमाल
 
टेस्ट क्रिकेट इतिहास का इकलौता गेंदबाज, जिसने किया था दोनों पारियों में हैट्रिक लेने का कमाल

क्रिकेट का खेल अनिश्चितताओं का खेल है. क्रिकेट के मैदान पर आए दिन रिकॉर्ड बनते हैं और पुराने रिकॉर्ड टूट जाते हैं. टेस्ट क्रिकेट इस खेल का सबसे पुराना फॉर्मेट है, जिसकी महत्ता आज भी कम नहीं हुई है. टेस्ट क्रिकेट में ही किसी भी खिलाड़ी की प्रतिभा का असली परीक्षण होता है. टेस्ट में लगातार अच्छा प्रदर्शन कर पाना खिलाड़ियों के लिए बहुत मुश्किल होता है. 

टेस्ट क्रिकेट इतिहास का इकलौता गेंदबाज, जिसने किया था दोनों पारियों में हैट्रिक लेने का कमाल

टेस्ट क्रिकेट इतिहास में अब तक कई ऐसे रिकॉर्ड भी बने हैं जिनका टूटना बहुत ही मुश्किल है. ऐसे ही एक अनोखे रिकॉर्ड के बारे में आज हम आपको बता रहे हैं. यह रिकॉर्ड है टेस्ट की दोनों पारियों में हैट्रिक लेने का. आइए जानते हैं किस खिलाड़ी ने ये कमाल किया था.

टेस्ट की दोनों पारियों में हैट्रिक लेने का कमाल ऑस्ट्रेलिया के लेग स्पिनर जिमी मैथ्यूज ने किया था. उन्होंने यह रिकॉर्ड 109 साल पहले बनाया था, जो आज तक बरकरार है. 1912 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले गए एक टेस्ट मैच में जिमी मैथ्यूज ने ये कमाल किया था. उन्होंने उस मैच में 6 विकेट चटकाए थे. उन्होंने सभी विकेट बिना किसी फील्डर की मदद के लिए थे. उन्होंने दो बल्लेबाजों को बोल्ड आउट किया था, दो बल्लेबाजों को एलबीडब्ल्यू और 2 कैच खुद लपके थे. हालांकि उनका करियर ज्यादा लंबा नहीं रहा. उन्होंने अपने करियर में 8 टेस्ट मैच खेले जिसमें 16 विकेट चटकाए.

From around the web