हिंदी में कमेंट्री करने के लिए ट्यूशन लेता था ये भारतीय खिलाड़ी, हुआ बड़ा खुलासा

एक समय भारतीय क्रिकेट में इंग्लिश का जलवा था. लेकिन अब हिंदी की महत्वता बहुत बढ़ गई है. बड़े से बड़े क्रिकेटर भी हिंदी में कमेंट्री करना चाहते हैं. दक्षिण भारत से ताल्लुक रखने वाले वीवीएस लक्ष्मण जैसे क्रिकेटर तो हिंदी में कमेंट्री के लिए ट्यूशन भी लिया करते थे. स्टार और डिज्नी इंडिया के
 

एक समय भारतीय क्रिकेट में इंग्लिश का जलवा था. लेकिन अब हिंदी की महत्वता बहुत बढ़ गई है. बड़े से बड़े क्रिकेटर भी हिंदी में कमेंट्री करना चाहते हैं. दक्षिण भारत से ताल्लुक रखने वाले वीवीएस लक्ष्मण जैसे क्रिकेटर तो हिंदी में कमेंट्री के लिए ट्यूशन भी लिया करते थे. स्टार और डिज्नी इंडिया के प्रमुख संजोग गुप्ता ने बताया कि दर्शक ही नहीं प्रसारक और कमेंटेटर भी 9 तारीख से शुरू होने वाले आईपीएल को लेकर बेहद उत्सुक हैं.

हिंदी में कमेंट्री करने के लिए ट्यूशन लेता था ये भारतीय खिलाड़ी, हुआ बड़ा खुलासा

उन्होंने कहा कि हिंदी आज क्रिकेट का सबसे बड़ा बाजार है. आईपीएल 2020 को जितने दर्शकों ने देखा, उनमें दो तिहाई हिंदी के दर्शक थे. पहले टीवी पर क्रिकेट की भाषा इंग्लिश होती थी. लेकिन अब समय बदल गया है. अब ज्यादा से ज्यादा लोग हिंदी भाषा में क्रिकेट देख रहे हैं.

हिंदी में कमेंट्री करने के लिए ट्यूशन लेता था ये भारतीय खिलाड़ी, हुआ बड़ा खुलासा

संजोग गुप्ता ने कहा कि आपने देखा होगा कि सुनील गावस्कर, सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़, वीवीएस लक्ष्मण, सचिन तेंदुलकर जैसे दिग्गज हिंदी कमेंट्री में हाथ आजमा चुके हैं. पूर्व भारतीय क्रिकेटर हिंदी में कमेंट्री जरूर करना चाहते हैं. वीवीएस लक्ष्मण की तो हिंदी बहुत अच्छी नहीं थी लेकिन वह जानते थे कि श्रोता हिंदी में है. इसीलिए उन्होंने अपनी हिंदी सुधारने की कोशिश की.

संजोग गुप्ता ने बताया कि आप यकीन नहीं करेंगे करीब 1 साल के लिए वीवीएस लक्ष्मण हर हफ्ते 2 या 3 दिन हिंदी की ट्यूशन लेते थे और उन्होंने इस तरह अपनी बोलचाल की हिंदी को बेहतर किया. आज भी वह अपनी हिंदी को बेहतर करने का प्रयास करते हैं, क्योंकि भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया भर में हिंदी के दर्शकों की संख्या बढ़ी है.

From around the web