अश्विन ने की पाकिस्तान के इस गेंदबाज की तारीफ, बोले- केवल वहीं Legal Doosra फेंकते थे

भारतीय टीम के स्पिनर गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन ने पाकिस्तान के दिग्गज स्पिनर सकलेन मुश्ताक की जमकर तारीफ की. अश्विन का कहना है कि सकलेन मुश्ताक इकलौते स्पिनर थे, जो अपने करियर के दौरान ‘वैध दूसरा’ गेंद डालते थे और वह चाहते हैं कि आईसीसी को कोहनी मोड़ने की मौजूदा 15 डिग्री की सीमा को हटाकर
 
अश्विन ने की पाकिस्तान के इस गेंदबाज की तारीफ, बोले- केवल वहीं Legal Doosra फेंकते थे

भारतीय टीम के स्पिनर गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन ने पाकिस्तान के दिग्गज स्पिनर सकलेन मुश्ताक की जमकर तारीफ की. अश्विन का कहना है कि सकलेन मुश्ताक इकलौते स्पिनर थे, जो अपने करियर के दौरान ‘वैध दूसरा’ गेंद डालते थे और वह चाहते हैं कि आईसीसी को कोहनी मोड़ने की मौजूदा 15 डिग्री की सीमा को हटाकर स्वीकार्य स्तर तक की अनुमति दे देनी चाहिए.

अश्विन ने की पाकिस्तान के इस गेंदबाज की तारीफ, बोले- केवल वहीं Legal Doosra फेंकते थे

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व ‘परफोरमेंस’ विश्लेषक प्रसन्ना अगोराम से चर्चा के दौरान अश्विन ने ऑफ स्पिरनरों की इस खतरनाक गेंद को लेकर विस्तार से बात की. अश्विन ने अपने तमिल यूट्यूब चैनल शो ‘द लीजेंड ऑफ द दूसरा’ में अगोराम से कहा- मेरे हिसाब से, हमें इसे (दूसरा को) खत्म नहीं करना चाहिए बल्कि स्पिनरों को कोहनी के उचित मोड़ के साथ जिम्मेदारी से दूसरा गेंद फेंकने के लिये सक्षम करना चाहिए. इसमें किसी भी तरह का उल्लंघन नहीं होना चाहिए. हर किसी को 15 डिग्री या 20-22 डिग्री तक मोड़ के साथ गेंदबाजी की अनुमति देनी चाहिए.

अगोराम चाहते हैं कि आईसीसी आईसीसी कोहनी को 15 डिग्री तक मोड़ने की सीमा को बढ़ा दे और साथ ही स्पिनरों को जिम्मेदारी से दूसरा गेंद फेंकनी चाहिए. अश्विन ने कहा- मैं गेंद और बल्ले में बराबर संतुलन चाहता हूं. मैं चाहता हूं कि बल्लेबाजों की तरह गेंदबाजों को आजादी मिले. इससे प्रतिस्पर्धा और बेहतर होगी. मैं गेंदबाजों को T20 में 125 रन के स्कोर का बचाव करते हुए भी देखना चाहता हूं. लब्बोलुवाब यही है.

From around the web