स्मार्ट सिटी की योजनाओं के क्रियान्वयन में जनसहभागिता जरूरी : उपमुख्यमंत्री

 
पटना, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। बिहार के उपमुख्यमंत्री और नगर विकास एवं आवास मंत्री तारकिशोर प्रसाद ने बुधवार को स्मार्ट सिटी के अंतर्गत संचालित कार्यों की समीक्षा की एवं आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी की योजनाओं के क्रियान्वयन में जनसहभागिता सुनिश्चित हो।

स्मार्ट सिटी के लिए बिहार के चार शहर पटना, बिहारशरीफ, भागलपुर और मुजफ्फरपुर चयनित हैं। उपमुख्यमंत्री ने माना कि स्मार्ट सिटी के लिए बनी योजनाओं के क्रियान्वयन में पूर्व में ही अनावश्यक विलंब हुआ है। उन्होंने कहा कि अब आवश्यकता है कि स्मार्ट सिटी की सभी योजनाएं मिशन मोड में संचालित हो।

उन्होंने योजना के क्रियान्वयन में जनसहभागिता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए और कहा कि इसकी जानकारी आमलोगों को दी जाए। उपमुख्यमंत्री ने स्मार्ट सिटी के तहत चल रहे कार्यों की जानकारी संबंधित नगर निगम के महापौर एवं पार्षदों को भी देने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

उपमुख्यमंत्री ने संबंधित नगर निगम के नगर आयुक्त को निर्देश देते हुए कहा, स्मार्ट सिटी के तहत पूर्ण की गई योजनाओं के उद्घाटन अथवा शुरू की जा रही योजनाओं के शिलान्यास कार्यक्रम की सूची विभाग को भेजी जाए, जिससे उसका विधिवत कार्यक्रम निर्धारित किया जा सके।

उन्होंने स्पष्ट निर्देश में कहा कि स्मार्ट सिटी के तहत किए जा रहे कार्य धरातल पर स्पष्ट रूप से दिखने चाहिए। चयनित शहरों में साफ-सफाई और जल-जमाव की समस्या का शीघ्र समाधान हो। साथ ही, उन्होंने स्मार्ट सिटी योजना के अंतर्गत वेंडिंग जोन को शामिल करने की संभावनाओं को तलाशने की आवश्यकता बताई।

विभाग के प्रधान सचिव आनंद किशोर ने बताया कि स्मार्ट सिटी योजना के तहत पिछले तीन महीने में अपेक्षित प्रगति हुई है, जिसके कारण पूर्व की अपेक्षा चयनित शहरों की रैंकिंग में सुधार हुआ है। उन्होंने दावा किया कि योजना के क्रियान्वयन में तेजी लाई जाएगी।

बैठक में पटना नगर निगम के नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा, मुजफ्फरपुर के नगर आयुक्त विवेक रंजन मैत्रेय, बिहारशरीफ के नगर आयुक्त अंशुल अग्रवाल, भागलपुर के नगर आयुक्त प्रफुल्ल चंद्र यादव सहित स्मार्ट सिटी से संबंधित अन्य विभागीय वरीय पदाधिकारी उपस्थित रहे।

--आईएएनएस

एमएनपी/एएनएम

From around the web