सरकार किसान यूनियनों से चर्चा के लिए तैयार : केंद्र

 
सरकार किसान यूनियनों से चर्चा के लिए तैयार : केंद्र सरकार किसान यूनियनों से चर्चा के लिए तैयार : केंद्रनई दिल्ली, 20 जुलाई (आईएएनएस)। किसानों के तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर अपना विरोध जारी रखने के बीच, सरकार ने अपना रुख दोहराया है कि वह किसान यूनियनों के साथ चर्चा के लिए हमेशा तैयार है और इस मुद्दे को हल करने के लिए भविष्य में आंदोलनकारी किसानों के साथ चर्चा के लिए तैयार रहेगी।

मनोज तिवारी, अदूर प्रकाश, संगम लाल गुप्ता, सप्तगिरि शंकर उलका, प्रद्युत बोरदोलोई और अमर सिंह द्वारा नए कृषि कानूनों को निरस्त करने सहित विभिन्न सांसदों द्वारा मंगलवार को लोकसभा में कई सवालों के जवाब में, सरकार ने यह पात कही।

केंद्र ने कहा कि नए कृषि कानून - किसान उत्पाद व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) अधिनियम, 2020, मूल्य आश्वासन और कृषि सेवा अधिनियम, 2020 पर किसान (सशक्तिकरण और संरक्षण) समझौता, और आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम, 2020 -- एक पारिस्थितिकी तंत्र प्रदान करने के इरादे से लाए गए हैं, जहां किसान अपनी उपज की बिक्री से संबंधित पसंद की स्वतंत्रता का आनंद ले सकते हैं, जो किसानों को उनकी उपज बेचने के लिए प्रतिस्पर्धी वैकल्पिक चैनलों के माध्यम से लाभकारी कीमतों की सुविधा प्रदान करते हैं।

ये कृषि कानून व्यापारियों, प्रसंस्करणकर्ताओं, निर्यातकों, किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ), कृषि सहकारी समितियों आदि द्वारा किसानों से सीधे खरीद की सुविधा प्रदान करेंगे, ताकि किसानों को उनकी आय बढ़ाने के लिए आपूर्ति श्रृंखला कम होने और विपणन लागत में कमी के कारण बेहतर मूल्य प्राप्त करने में सुविधा हो।

ज्यादातर पंजाब और हरियाणा के किसान नवंबर 2020 में राष्ट्रीय राजधानी की ओर बढ़े थे, जो कि तब से ही तीन कृषि कानूनों को पूरी तरह से निरस्त करने की मांग को लेकर दिल्ली से लगती विभिन्न सीमाओं पर धरना दे रहे हैं।

कृषि और किसान कल्याण मंत्री, नरेंद्र सिंह तोमर ने लोकसभा को सूचित किया कि सरकार विरोध प्रदर्शन को समाप्त करने के लिए आंदोलनकारी किसान यूनियनों के साथ सक्रिय रूप से और लगातार लगी हुई है और मुद्दे का हल निकालने के लिए सरकार तथा आंदोलनकारियों के बीच 11 दौर की बातचीत हो चुकी है।

--आईएएनएस

एकेके/एसजीके

From around the web