भारत यात्रा पर प्रतिबंध नस्लबाद नहीं : ऑस्ट्रेलियाई एफएम

 
भारत यात्रा पर प्रतिबंध नस्लबाद नहीं : ऑस्ट्रेलियाई एफएमकैनबरा, 3 मई (आईएएनएस)। ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री मारिज पायने ने उन सुझावों से इनकार किया है कि देश की बिगड़ती कोविड-19 स्थिति के बीच भारत से यात्रा पर प्रतिबंध लगाने का सरकार का निर्णय नस्लवाद से प्रेरित था।

सिन्हुआ समाचार एजेंसी ने सोमवार को बताया कि पेन्ने ने कहा कि भारत से ऑस्ट्रेलिया की यात्रा पर प्रतिबंध लगाने का यह कदम होटल क्वारंटाइन में ऑस्ट्रेलियाई लोगों के बीच कोविड 19 संक्रमण की उच्च संख्या को रोकने के लिए बनाया गया था।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी की सलाह के आधार पर जैव सुरक्षा अधिनियम के तहत जो निर्णय किया गया है वह रिटर्न के लिए एक अस्थायी ठहराव है।

1 मई को, सरकार ने घोषणा की कि जो भी व्यक्ति ऑस्ट्रेलिया में प्रवेश करेगा और वो 14 दिनों के भीतर भारत में था, उसे पांच साल तक की जेल और भारी जुर्माना का सामना करना पड़ सकता है।

अस्थायी ठहराव आज से लागू होगा और मुख्य चिकित्सा अधिकारी की सलाह के बाद सरकार द्वारा 15 मई को पुनर्विचार किया जाएगा।

यह पूछने पर कि क्या कट्टरपंथी कदम नस्लवाद से प्रेरित था, पायने ने कहा बिल्कुल नहीं।

पायने की टिप्पणियों के कारण एक प्रमुख नागरिक विशेषज्ञ ने चेतावनी दी कि सरकार यात्रा प्रतिबंध के लिए कानूनी चुनौती का सामना कर सकती है।

यूनिवर्सिटी ऑफ कैनबरा के फैकल्टी ऑफ बिजनेस, गवर्नमेंट एंड लॉ के किम रुबेनस्टीन ने कहा कि अगर प्रतिबंध 15 मई की प्रारंभिक समाप्ति की तारीख से आगे जाता है, तो एक चुनौती समान होगा।

सोमवार को नाइन एंटरटेनमेंट अखबारों के अनुसार उसने कहा कि मनोरंजन की वैधता के रूप में संघीय अदालत में एक चुनौती हो सकती है।

यह जितना लंबा चलेगा कानूनी चुनौतियां बढ़ती जाएगी।

--आईएएनएस

एमएसबी/एएनएम

From around the web