फोन टैपिंग कांग्रेस की कार्यप्रणाली : खट्टर

 
फोन टैपिंग कांग्रेस की कार्यप्रणाली : खट्टरचंडीगढ़, 21 जुलाई (आईएएनएस)। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने बुधवार को फोन टैपिंग को लेकर संसद में हंगामा करने के लिए कांग्रेस की आलोचना करते हुए कहा कि उसे विकास के मुद्दों पर चर्चा करने के बजाय आरोप लगाने की आदत है।

खट्टर ने यहां मीडिया से कहा, हमारी पार्टी का जासूसी या फोन टैपिंग से कोई लेना-देना नहीं है। अगर किसी भी पार्टी को जासूसी की साजिश रचने और लोकप्रिय सरकारों को अस्थिर करने की आदत है, तो वह निश्चित रूप से कांग्रेस है।

उन्होंने कहा कि पिछले सात वर्षों में प्रधानमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने कांग्रेस को मुद्दे उठाने का मौका नहीं दिया और इस बार भी उसने लोकतंत्र को बदनाम करने की साजिश रची है।

खट्टर ने कहा, यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कैसे कांग्रेस विकास के मुद्दों पर चर्चा करने के बजाय भारत के लोकतांत्रिक ताने-बाने को नुकसान पहुंचाने के लिए अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों और वामपंथी संगठनों का समर्थन कर रही है। भारत की छवि खराब करने के लिए इन छोटी-छोटी चीजों को करने से कांग्रेस को कुछ हासिल नहीं होने वाला है। देश उन्हें देख रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा, कांग्रेस ने कभी भी देश को लोकतांत्रिक तरीके से चलाने में विश्वास नहीं किया। आज वे सिर्फ अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों और एक वामपंथी पोर्टल में प्रकाशित रिपोटरें पर विश्वास करके फोन टैपिंग के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं, लेकिन मैं उन्हें याद दिलाना चाहूंगा कि जब कांग्रेस केंद्र में थी तो उसने खुद अपने ही नेताओं की जासूसी करने के लिए सर्विलांस का इस्तेमाल एक उपकरण के रूप में किया था।

एक उदाहरण देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि मीडिया रिपोटरें के साथ सबूत हैं कि कैसे कांग्रेस ने पूर्व रेल मंत्री ममता बनर्जी सहित अपनी ही पार्टी के नेताओं की जासूसी की थी।

खट्टर ने कहा, पूर्व वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी का तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पत्र लिखकर उनसे तत्कालीन गृह मंत्री पी. चिदंबरम के खिलाफ उनकी जासूसी करने को लेकर जांच करने के लिए कहा गया था, जो कि किसी से भी छिपा हुआ तथ्य नहीं है।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

From around the web