टीडीपी सुप्रीमो ने विजाग में स्कूल तोड़ने की निंदा की

 
टीडीपी सुप्रीमो ने विजाग में स्कूल तोड़ने की निंदा कीहैदराबाद/विशाखापत्तनम, 9 जून (आईएएनएस)। आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और प्रमुख विपक्षी नेता चंद्रबाबू नायडू ने बुधवार को विशाखापत्तनम के बंदरगाह शहर में विशेष रूप से विकलांग बच्चों के लिए एक स्कूल को कथित तौर पर गिराए जाने की निंदा की।

नायडू ने प्रमुख सचिव आदित्य नाथ दास को लिखे एक पत्र में कहा, विशाखापत्तनम में इस सरकार के विध्वंस कृत्यों में भयावह और घृणित है। यह दुखद है कि सरकार ने विभिन्न बौद्धिक और शारीरिक क्षमताओं वाले बच्चों के लिए एक गैर-लाभकारी स्कूल हिडन स्प्राउट्स को निशाना बनाया गया है।

तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) सुप्रीमो के अनुसार, स्कूल को ग्रेटर विशाखापत्तनम नगर निगम (जीवीएमसी) ने 2013 में दो कमरों के साथ पट्टे पर दिया था और 190 छात्रों की सेवा कर रहा था, जिनमें से अधिकांश आर्थिक रूप से अस्थिर परिवारों से थे।

नायडू ने आरोप लगाया कि सरकारी अधिकारियों ने रविवार को अस्थायी शेड को गिरा दिया और स्कूल परिसर को जब्त कर लिया।

उन्होंने आरोप लगाया, बिना किसी लिखित नोटिस के प्राकृतिक न्याय के सिद्धांतों के खिलाफ विध्वंस किया गया है। यह शर्म की बात है कि एक सभ्य समाज में इस तरह के अत्याचारी कृत्य को करने दिया गया।

दास को लिखे अपने पत्र में विपक्षी नेता ने कहा कि विभिन्न बौद्धिक और शारीरिक क्षमताओं वाले बच्चों के लिए स्कूल के विध्वंस के बाद सरकार ने सत्ता में रहने का नैतिक अधिकार खो दिया।

इस घटना को लेकर नायडू ने मुख्य सचिव से समाज की सेवा करने वाले गैर-लाभकारी संगठनों का समर्थन करने की अपील की है।

नायडू ने दावा किया, हिडन स्प्राउट्स में वर्तमान में नामांकित स्कूली बच्चों के साथ न्याय किए जाने की जरूरत है। भू-माफिया और भूमि हथियाने वालों के साथ मिलकर इस तरह के घिनौने कृत्य के लिए जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई शुरू करने की जरूरत है।

--आईएएनएस

एचके/आरजेएस

From around the web