ईरान ने कैदियों को रिहा करने की बात से किया इनकार

 
ईरान ने कैदियों को रिहा करने की बात से किया इनकारतेहरान, 3 मई (आईएएनएस)। ईरानी विदेश मंत्रालय ने सोमवार को उस रिपोर्ट को खारिज कर दिया जिसमें कहा गया था कि तेहरान ब्रिटेन और अमेरिका के साथ राजनयिक विवादों के कारण लंबे समय से सीज बैंक खातों तक पहुंचने के बदले में पांच कैदियों को मुक्त करने की तैयारी कर रहा है।

एक समाचार एजेंसी ने मंत्रालय के प्रवक्ता सईद खतीबजादे के हवाले से कहा, एक नियम के रूप में, हम तथाकथित सूचित स्रोतों द्वारा रिपोर्ट और बयानों की पुष्टि नहीं करते हैं।

टिप्पणियों को लेबनानी प्रसारक अल मायादीन की एक रिपोर्ट द्वारा प्रेरित किया गया था, जिसमें रविवार को बताया गया था कि ईरान सभी यूके या यूएस में दोहरी नागरिकता के साथ, लंबे समय से जमे हुए धन की पहुंच के कारण पांच लोगों को मुक्त करने की ओर अग्रसर है।

हालांकि अल मायादीन ने कैदियों का नाम नहीं लिया, लेकिन यह माना जा रहा है कि चार अमेरिकी ईरान में तीन व्यावसायिक अधिकारियों और एक पर्यावरण कार्यकर्ता का उल्लेख करते हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, उनकी स्वतंत्रता वर्तमान में जमे हुए 7 बिलियन डॉलर तक पहुंच प्रदान करेगी।

पांचवा व्यक्ति कथित तौर पर नाजनीन जगारी रैटक्लिफ है, जिसके पास ब्रिटिश नागरिकता भी है और हाल ही में पांच साल की हिरासत के बाद रिहा किया गया था।

लेकिन 12 साल पहले एक प्रदर्शन में भाग लेने के कारण उसे फिर से एक और साल की सजा सुनाई गई।

रिपोर्ट के अनुसार, ब्रिटेन को जगारी रैटक्लिफ की स्वतंत्रता के बदले में जमे हुए खातों से 400 मिलियन पाउंड दिए जाएंगे।

खतीबजादे ने कहा कि जमे हुए धन और कैदियों को रिहा करने का आस में कोई संबंध नहीं है।

लंदन और वाशिंगटन पहले ही रिपोर्ट का खंडन कर चुके हैं।

दोनों देशों ने ईरान पर आरोप लगाया है कि वह जमे हुए धन तक पहुंच हासिल करने के प्रयास में ईरान कैदियों का इस्तेमाल कर रहा है वहीं ईरान ने आरोपों से इनकार किया है।

--आईएएनएस

एमएसबी/एएनएम

From around the web