श्यामन : 2021 ब्रिक्स थिंक टैंक पर अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित

 
श्यामन : 2021 ब्रिक्स थिंक टैंक पर अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजितबीजिंग, 11 जून (आईएएनएस)। 2021 ब्रिक्स थिंक टैंक पर अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी 10 जून को दक्षिण चीन के फूच्येन प्रांत के श्यामन शहर में आयोजित हुई, जिसका शीर्षक हाथ मिलाकर नवाचार केंद्र का सह-निर्माण करें और ब्रिक्स सहयोग का आदर्श नमूना बनें है।

ब्रिक्स देशों के जाने-माने अकादमिक जगतों, उद्योगों, सरकारी विभागों, अंतर्राष्ट्रीय संगठनों और व्यापार संघों के 200 से अधिक लोगों ने ऑनलाइन और ऑफलाइन माध्यम से संगोष्ठी में भाग लिया। उन्होंने ब्रिक्स नवाचार केंद्र के निर्माण को आगे बढ़ाने, निवेश व्यापार की सुविधा का संवर्धन करने तथा वित्तीय नवाचार सहयोग को बढ़ावा देने आदि विषयों पर विचार-विमर्श किया।

ब्रिक्स थिंक टैंक सहयोग में चीन पक्षीय परिषद के अध्यक्ष, चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय समिति के विदेशी संपर्क विभाग के उप प्रधान क्वो येचओ ने संगोष्ठी में भाषण देते हुए कहा, साल 2020 में ब्रिक्स नई औद्योगिक क्रांति साझेदारी नवाचार केंद्र को श्यामन शहर में औपचारिक तौर पर लॉन्च किया गया था। इस अड्डे के निर्माण के दौरान तकनीकी नवाचार सहयोग को प्रधानता दी जाएगी, ब्रिक्स देशों में कृत्रिम बुद्धि, बिग डेटा, ब्लॉकचेन, 5जी आदि नई पीढ़ी वाले सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्रों में मौजूद निहित शक्ति की खोज की जाएगी, और इसके साथ ही बुद्धिमान विनिर्माण, औद्योगिक इंटरनेट, हरित उद्योग और बायोमेडिसिन जैसे उच्च तकनीक वाले क्षेत्रों में ब्रिक्स देशों के औद्योगिक सहयोग को गहराया जाएगा।

ब्रिक्स न्यू डेवलपमेंट बैंक (एनडीबी) के उप गवर्नर अनिल किशोर ने कहा, गत वर्ष ब्रिक्स नई औद्योगिक क्रांति साझेदारी नवाचार केंद्र का निर्माण शुरू करना ब्रिक्स सहयोग में नए मील का पत्थर है। साल 2015 में अपनी स्थापना के बाद से लेकर अब तक एनडीबी नवाचार को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है।

किशोर ने कहा कि डिजिटल प्रौद्योगिकी के अनुप्रयोग से ब्रिक्स देशों की आर्थिक और व्यापारिक सहयोग में मौजूद निहित शक्ति को खोजने में मदद मिलेगी। साल 2000 से 2022 तक, वैश्विक व्यापार में ब्रिक्स देशों की हिस्सेदारी 8.3 प्रतिशत से बढ़कर 17.5 प्रतिशत तक पहुंच गई, ब्रिक्स देशों के बीच व्यापार आदान-प्रदान ने भी प्रत्येक सदस्य देश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

संगोष्ठी में रूसी ब्रिक्स अनुसंधान राष्ट्रीय समिति की कार्यकारी निदेशक विक्टोरिया पनोवा ने वीडियो भाषण देते हुए कहा कि पिछले पांच सालों में ब्रिक्स देशों के बीच वैज्ञानिक तकनीकी सहयोग और घनिष्ठ हुआ है। तकनीकी नवाचार का विकास सहयोग के लिए सबसे बड़ी प्रेरक शक्तियों में से एक बन गया है। उन्होंने कहा कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी के विकास में नवाचार एक बहुत ही महत्वपूर्ण कड़ी है। उन्हें आशा है कि ब्रिक्स देश मौजूदा सहयोग ढांचे के लाभों को अधिकतम करेंगे। हरित ऊर्जा, इंटरनेट प्रौद्योगिकी, वैज्ञानिक आदान-प्रदान और प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के क्षेत्र में सहयोग करना जारी रखेंगे, अधिक से अधिक व्यावहारिक परिणाम प्राप्त करेंगे।

--आईएएनएस

आरएचए

( साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग )

From around the web