भारत-बांग्लादेश सीमा पर शांति बनाए रखने के लिए एहतियाती कदम उठाएंगे बीएसएफ, बीजीबी

 
भारत-बांग्लादेश सीमा पर शांति बनाए रखने के लिए एहतियाती कदम उठाएंगे बीएसएफ, बीजीबीअगरतला, 11 जून (आईएएनएस)। भारत और बांग्लादेश के सीमा रक्षकों ने शुक्रवार को एक महत्वपूर्ण क्षेत्रीय द्विवार्षिक सीमा समन्वय सम्मेलन (बीसीसी) में सभी मुद्दों को सौहार्दपूर्ण तरीके से हल करके अंतराष्र्ट्ीय सीमा पर शांति एवं सद्भाव की स्थिति बनाने के लिए पूर्वव्यापी उपाय शुरू करने पर सहमति व्यक्त की है। अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) के बीच 4 दिवसीय बीसीसी के बाद, बीएसएफ के एक प्रवक्ता ने कहा कि कोविड-19 महामारी के बीच इस पहली वर्चुअल बैठक ने दोस्ती, विश्वास और सहयोग के बंधन को और मजबूत करने का फैसला किया है।

उन्होंने कहा कि सीमापार अपराधों, मादक पदार्थों और अन्य चीजों की तस्करी सहित द्विपक्षीय सीमा मुद्दों से निपटने के लिए समन्वित सीमा प्रबंधन योजना (सीबीएमपी) पर विस्तार से चर्चा की गई।

चार दिवसीय वर्चुअल सम्मेलन के दौरान, बांग्लादेश की ओर से भारतीय विद्रोही समूहों की गतिविधियों, सीमा उल्लंघन और उनके निवारक उपायों, सीमाओं के साथ लंबित विकास कार्यों, भारत-बांग्लादेश अंतरराष्ट्रीय सीमाओं के साथ एकल पंक्ति बाड़ के निर्माण पर विस्तार से चर्चा की गई।

बयान में कहा गया है कि बीजीबी प्रतिनिधिमंडल के नेता तनवीर गनी चौधरी, अतिरिक्त महानिदेशक (दक्षिण-पूर्व क्षेत्र) ने आभासी सम्मेलन में भाग लेने और विचारशील विचार-विमर्श के माध्यम से बहुमूल्य योगदान देने के लिए बीएसएफ प्रतिनिधिमंडल का आभार व्यक्त किया, जिसके परिणामस्वरूप विभिन्न पर समझौतों के साथ सफल निष्कर्ष निकला।

बीएसएफ के त्रिपुरा फ्रंटियर के महानिरीक्षक एवं बीएसएफ प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख सुशांत कुमार नाथ ने भी भारत-बांग्लादेश अंतरराष्ट्रीय सीमा पर शांति और सद्भाव बनाए रखने और पहले से ही मजबूत मैत्रीपूर्ण संबंधों को मजबूत करने में दोनों सीमा सुरक्षा बलों की ईमानदार प्रतिबद्धता पर प्रकाश डाला।

तीन बीएसएफ फ्रंटियर - त्रिपुरा, मेघालय और मिजोरम एवं कछार फ्रंटियर के महानिरीक्षक और दक्षिण-पूर्व तथा उत्तर-पूर्व क्षेत्र के बीजीबी अधिकारियों ने बीसीसी में भाग लिया।

बैठक में बांग्लादेश के विदेश मामलों और गृह मंत्रालयों के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी हिस्सा लिया।

चार पूर्वोत्तर राज्य - त्रिपुरा (856 किमी), मेघालय (443 किमी), मिजोरम (318 किमी) और असम (263 किमी) - बांग्लादेश के साथ 1,880 किमी सीमा साझा करते हैं।

सीमाओं के अधिकांश हिस्सों में बाड़ नहीं है और सीमा के दोनों ओर हजारों गांव और लोगों के घर हैं।

--आईएएनएस

एकेके/जेएनएस

From around the web