जी-7 को बहुपक्षवाद को बढ़ावा देने पर ध्यान देना चाहिए

 
जी-7 को बहुपक्षवाद को बढ़ावा देने पर ध्यान देना चाहिएबीजिंग, 10 जून (आईएएनएस)। इस शुक्रवार से रविवार तक ब्रिटेन के दक्षिण-पश्चिमी तट पर कार्बिस बे, कॉर्नवाल में आयोजित होने वाले जी-7 शिखर सम्मेलन ने दुनिया का विशेष ध्यान आकर्षित किया है, क्योंकि कोरोना महामारी फैलने के बाद यह पहली बार ऑफलाइन अंतर्राष्ट्रीय सभा होगी। माना जा रहा है कि इसके शिखर सम्मेलन में जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों और कोरोना वायरस महामारी के संकट से निपटने के बारे में चर्चा हो सकती है।

जी-7 शिखर सम्मेलन आम तौर पर सदस्य देशों की नीतियों को बेहतर ढंग से समन्वयित करने और सात सबसे अधिक औद्योगिक देशों के बीच मतभेदों को दूर करने में मदद करता है। और चूंकि जी-7 के सदस्य दुनिया की सबसे उन्नत अर्थव्यवस्थाएं हैं, इसलिए इसके निर्णयों का वैश्विक आर्थिक और राजनीतिक शासन पर बड़ा प्रभाव पड़ता है।

हालांकि, तेजी से बदलते वैश्विक परि²श्य और जटिल वैश्विक समस्याओं को देखते हुए, जी-7 को आलोचना का सामना करना पड़ रहा है कि एक कुलीन समूह के रूप में, उसे एक एजेंडा निर्धारित करने का कोई अधिकार नहीं है जो अन्य देशों पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का प्रतिनिधि न होने के बावजूद, जी-7 अभी भी बहुपक्षवाद को कायम रखते हुए दुनिया भर में कोविड-19 टीकों के उचित वितरण को बढ़ावा देकर और जलवायु परिवर्तन के खिलाफ वैश्विक लड़ाई को बढ़ावा देकर अपनी वैधता स्थापित कर सकता है।

कोरोना महामारी अभी भी कई देशों में फैल रही है, और इसे प्रभावी ढंग से तभी रोका जा सकता है जब दुनिया के सभी लोगों को टीका लगाया जाए। लेकिन वैक्सीन वितरण असमान है, क्योंकि अमीर देशों ने जरूरत से ज्यादा वैक्सीन की खुराक जमा कर रखी है। उन्होंने 80 प्रतिशत से अधिक टीके हासिल कर लिए हैं जबकि कम विकसित देशों को सिर्फ 0.3 प्रतिशत टीके ही मिले हैं। नतीजतन, वायरस फैलता रहेगा और घातक रूपों में उत्परिवर्तित होता रहेगा।

विकासशील और कम विकसित देशों में बिगड़ती स्थिति वैश्विक आर्थिक सुधार को पटरी से नीचे उतार सकती है और विकसित देशों के लोगों के लिए भी खतरा पैदा कर सकती है। वास्तव में, वैश्विक संगठनों के साथ-साथ जी-7 देशों ने भी महसूस किया है कि कोई भी देश तब तक सुरक्षित नहीं है जब तक सभी देश सुरक्षित नहीं हैं।

इसलिए, यह सुनिश्चित करके कि विकासशील और कम विकसित देशों को पर्याप्त टीके मिलें, जी-7 न केवल अपनी नैतिक जिम्मेदारी निभाएगा बल्कि अपने सदस्य देशों के हितों की सेवा भी करेगा। आज की दुनिया में इसकी प्रासंगिकता को साबित करने के लिए जी-7 शिखर सम्मेलन को उदाहरण पेश करना चाहिए। और ऐसा करने का सबसे अच्छा तरीका यह सुनिश्चित करना है कि सभी देश, चाहे वह अमीर हो या गरीब, टीकों की समान पहुंच हो।

वैश्विक आबादी का टीकाकरण करने और वायरस की संचरण श्रृंखलाओं को काटने के लिए, जी-7 नेता अन्य देशों में दवा कंपनियों को वैक्सीन प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण की सुविधा के लिए टीकों पर पेटेंट अधिकारों को माफ करने के लिए शिखर सम्मेलन का उपयोग करें, ताकि बड़े पैमाने पर उत्पादन और टीकों का उचित वितरण सुनिश्चित हो सके।

इस तरह से ही हम अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के 2021 के अंत तक विश्व की कम से कम 40 प्रतिशत आबादी और 2022 तक 60 प्रतिशत आबादी को टीका लगाने के प्रस्ताव को साकार कर सकते हैं।

दूसरे शब्दों में, जी-7 शिखर सम्मेलन को अपनी प्रासंगिकता साबित करने के लिए महामारी और जलवायु संबंधी समस्याओं का समाधान करना चाहिए। और अगर जी-7 के सदस्य अंतरराष्ट्रीय समुदाय के प्रति अपनी जिम्मेदारियों से बचने की कोशिश करते हैं, और इसके बजाय महामारी और जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में कुछ खास न करते हुए अन्य देशों की आलोचना करते हैं, तो वे वास्तव में विश्व या बहुपक्षवाद को बढ़ावा देने के लिए कोई अच्छा काम किए बिना एक कुलीन क्लब के सदस्य बने रहेंगे।

--आईएएनएस

आरएचए

(लेखक: अखिल पाराशर, चाइना मीडिया ग्रुप, बीजिंग में पत्रकार हैं)

From around the web