जापान अधिक सकारात्मक दृष्टिकोण से चीन के विकास को देखे : वांग यी

 
जापान अधिक सकारात्मक दृष्टिकोण से चीन के विकास को देखे : वांग यीबीजिंग, 6 अप्रैल (आईएएनएस)। चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने 5 अप्रैल को जापानी विदेश मंत्री तोशिमित्सु मोतेगी से फोन पर बात की। उन्होंने उम्मीद जताई कि जापान अधिक सकारात्मक दृष्टिकोण से चीन के विकास को देखेगा।

वांग यी ने कहा कि चीन के विकास से न केवल चीनी लोग बेहतर जीवन बिताने लगे हैं, बल्कि क्षेत्रीय स्थिरता और समृद्धि को बढ़ावा देने में भी सकारात्मक योगदान दिया गया है। तथ्य बताते हैं कि चीन का विकास विश्व शांति शक्तियों की वृद्धि, अंतर्राष्ट्रीय सहयोग को बढ़ाने में अनुकूल कारक हैं और जापान की अर्थव्यवस्था के दीर्घकालिक विकास के लिए महत्वपूर्ण अवसर भी है।

चीन हमेशा से अपने अंतर्राष्ट्रीय दायित्वों से अवगत रहा है, संयुक्त राष्ट्र से केंद्रित अंतर्राष्ट्रीय प्रणाली का दृढ़ता से समर्थन करता है, अंतर्राष्ट्रीय कानून पर आधारित अंतर्राष्ट्रीय नियमों का दृढ़ता से समर्थन करता है, सच्चे बहुपक्षवाद का दृढ़ता से समर्थन करता है और अंतर्राष्ट्रीय निष्पक्षता और न्याय की ²ढ़ता से रक्षा करता है।

चीन अन्य देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करता और अन्य देशों को चीन के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने की अनुमति नहीं देता है। चीन न केवल चीन की संप्रभुता, बल्कि अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के बुनियादी मापदंड की भी रक्षा करता है।

वांग यी ने आगे कहा कि किसी भी महाशक्ति की इच्छा अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकती और इस महाशक्ति का अनुसरण करने वाले कुछ देशों को बहुपक्षीय नियमों का एकाधिकार करने का कोई अधिकार नहीं है। यदि बहुपक्षवाद की आड़ में सामूहिक राजनीति या बड़ी शक्तियों के बीच टकराव पैदा करने के लिए उत्सुक हैं, यहां तक कि झूठी सूचना के आधार पर मनमाने तरीके से अन्य देशों पर एकतरफा अवैध प्रतिबंध लगाते हैं, तो दुनिया में जंगलराज होने लगेगा। यह बड़ी संख्या में छोटे और मध्यम आकार के देशों के लिए आपदा होगी। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के अधिकांश सदस्य सहमत नहीं होंगे।

वांग यी ने जोर देते हुए कहा कि चीन को क्या करना चाहिए, जिसके लिए चीनी लोग स्वतंत्र हैं, और चीनी लोगों को इस बारे में कहने का अधिकार है। विदेशी ताकतों को अपनी पसंद और नापसंद के अनुसार टिप्पणी करने की अनुमति नहीं है। सभी देशों को सबसे पहले अपने देश के घरेलू मामलों का अच्छी तरह से निपटारा करना चाहिए और स्वतंत्र रूप से अपने देश की स्थिति के अनुसार विकास रास्ता चुनने का अधिकार है। साथ ही, सभी देशों को एकजुट होकर वैश्विक चुनौतियों का सामना करना चाहिए।

(साभार : चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

--आईएएनएस

एसजीके

From around the web