चीन के ग्रामीण पुनरुत्थान में शामिल युवा

 
चीन के ग्रामीण पुनरुत्थान में शामिल युवाबीजिंग, 2 मई (आईएएनएस)। 4 मई को चीन में युवा दिवस है। हम जानते हैं कि युवाओं का विचार उन्नत है, गरीबी के खिलाफ लड़ाई में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका है। गरीबी उन्मूलन के काम में लगे युवा कर्मचारी और गरीब युवक सब उत्साह से भरे हैं। उनमें कुछ तो गांववासियों के नेतृत्व में विशेष व्यवसाय का विकास करते हैं और अपनी मेहनत से अमीर बनते हैं। कुछ तो ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा का विकास करने में जुटे हैं, जिससे बहुत से युवाओं के भाग्य बदले, और कुछ तो ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म का व्यापार करते हैं और गरीबी से बाहर निकलने के बाद गांववासियों की सहायता करते हैं। गरीबी उन्मूलन के कार्य में युवा लोग महत्वपूर्ण योगदान देते हैं।

खेती करना कठिन और कठोर काम है। युवा लोग नहीं करना चाहते, लेकिन यह परंपरागत विचार बदल रहा है। दक्षिण-पूर्वी चीन के च्यांगशी प्रांत में कई युवा लोग ग्रामीण पुनरुत्थान में लगे हैं।

च्यांगशी प्रांत के काओआन शहर के 29 वर्षीय लड़के तिंग तान ने ब्रिटेन के लिवरपूल विश्वविद्यालय से स्नातक होने के बाद वर्ष 2015 में गृहनगर वापस लौट कर चावल उगाने और खाद्य प्रसंस्करण करने का काम शुरू किया। उसने कहा कि आधुनिक कृषि की विशेषता मशीनीकरण, सूचनाकरण और बुद्धिमान है। इसलिए तिंग तान 9 युवकों के साथ आधुनिक कृषि उपकरणों से चावल उगाने लगा।

कई सालों के विकास के बाद तिंग तान की शंफा अनाज और तेल कंपनी का व्यापार तेजी से बढ़ने लगा है। चावल प्रसंस्करण और बिक्री का वार्षिक उत्पादन मूल्य 40 करोड़ युआन तक पहुंच गया है। लेकिन तिंग तान के कदम नहीं रुके। उसने कृषि उत्पादों के ब्रांड मूल्य और सुविधाजनक परिवहन पर निर्भर रहते हुए खेती संस्कृति के शिक्षा में प्रयास करना शुरू किया। तिंग तान ने कहा कि उच्च तकनीक और अधिक अतिरिक्त मूल्य वाले आधुनिक कृषि का विकास करने पर ही परंपरागत कृषि के विकास की कठिनाई दूर होगी। ऐसे में और अधिक युवा लोग गांव वापस आएंगे और खेती से प्यार करेंगे। यह ग्रामीण पुनरुत्थान की कुंजी है।

चीन में तिंग तान की तरह तमाम युवा लोग गरीबी उन्मूलन के कार्य में मेहनत से काम करते हैं और भरसक प्रयास करते हैं। उन्होंने उल्लेखनीय उपलब्धियां हासिल कीं।

(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

--आईएएनएस

आरजेएस

From around the web