कनाडा के परिवार पुनर्मिलन कार्यक्रम से भारतीयों को होगा लाभ

 
कनाडा के परिवार पुनर्मिलन कार्यक्रम से भारतीयों को होगा लाभटोरंटो, 21 जुलाई (आईएएनएस)। कनाड़ा में रहने वाले भारतीयों के लिए एक अच्छी खबर है, क्योंकि इस वर्ष 2021 में रिकॉर्ड 40,000 अप्रवासी परिवारों को उनके माता-पिता और दादा-दादी को कनाडा में आने की अनुमति दी जाएगी।

इसका मतलब है कि माता-पिता और दादा-दादी कार्यक्रम यानी पैरेंट्स एंड ग्रैंड पैरेंट्स प्रोग्राम (पीजीपी) के तहत 10,000 के वार्षिक इनटेक के मुकाबले 30,000 अतिरिक्त आवेदन स्वीकार किए जाएंगे, जिसका उद्देश्य परिवार का पुनर्मिलन है।

चूंकि भारत-कनाडाई कनाडा में सबसे तेजी से बढ़ते समुदायों में से एक हैं, इसलिए वे इस कार्यक्रम के प्रमुख लाभार्थी होंगे।

आवेदन 20 सितंबर से शुरू होने वाले दो सप्ताह की अवधि में ऑनलाइन जमा किए जा सकते हैं।

या²च्छिक चयन प्रक्रिया का उपयोग करते हुए, जिनके आवेदन स्वीकार किए जाते हैं, उन्हें अपने माता-पिता और दादा-दादी को कनाडा लाने की अनुमति होगी।

चूंकि प्रायोजकों को एक निश्चित न्यूनतम आय आवश्यकता दिखानी होती है, कनाडा सरकार ने उन्हें अपनी आय के लिए कोविड लॉकडाउन के दौरान प्राप्त राज्य के लाभों (स्टेट बेनिफिट्स) को शामिल करने की अनुमति दी है। यह सुनिश्चित करेगा कि महामारी के दौरान खोई हुई आय के लिए आवेदकों को दंडित न होना पड़े।

कार्यक्रम का अनावरण करते हुए कनाडा के आप्रवास मंत्री मार्को ई. एल. मेंडिसिनो ने कहा, महामारी के दौरान परिवार का महत्व कभी भी स्पष्ट नहीं रहा। यही कारण है कि हम कनाडा में अधिक परिवारों को फिर से मिलाने में मदद करने की अपनी प्रतिबद्धता को पूरा कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, माता-पिता और दादा-दादी कार्यक्रम को मजबूत करके, आवेदन करने के लिए प्रायोजकों की एक रिकॉर्ड संख्या को आमंत्रित करके और वर्तमान समय के अनुकूल होने के लिए अपनी आवश्यकताओं को समायोजित करके, हम एक बार फिर कनाडा के परिवारों को एक साथ रहने और एक साथ पनपने में मदद करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता साबित कर रहे हैं।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

From around the web