नाबालिग लड़की का बीपी चेक करते-करते डॉक्टर उठाने लगा उसके कपड़े, बंद केबिन में की ऐसी घिनौनी हरकत

 
N

भदोही से एक ऐसा मामला सामने आया है जिसने डॉक्टर बिरादरी का नाम शर्म से झुका दिया है. एक लड़की अपना इलाज कराने डॉक्टर के पास गई थी. लेकिन उसे यह कहां पता था कि वह डॉक्टर नहीं, बल्कि भेड़िया है. पुलिस ने मेडिकल जांच के नाम पर नाबालिग किशोरी से छेड़खानी करने वाले डॉक्टर का वीडियो वायरल होने के बाद उसके खिलाफ केस दर्ज कर लिया है. हालांकि अभी तक चिकित्सक की गिरफ्तारी नहीं हुई है.

N

शहर कोतवाली इलाके के रामरायपुर स्थित पार्वती अस्पताल के संचालक डॉ एस. के. चौहान ने 3 दिन पहले इलाज करवाने आई एक नाबालिग किशोरी से बंद केविन में घिनौनी करतूत की थी. घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जिसके बाद किशोरी के परिजनों ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. पुलिस ने डॉक्टर चौहान के खिलाफ धारा 354 क और पोक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज कर लिया है. डॉक्टर की तलाश में पुलिस जुटी हुई है. मामले की जांच की जा रही है और रिपोर्ट के आधार पर ही आगे की कार्रवाई की जाएगी.

पीड़िता भदोही शहर की रहने वाली है जिसके पिता ने आरोप लगाया है कि उनकी बेटी अपनी शारीरिक परेशानी का इलाज कराने इंदिरा मिल, रामरायपुर बाईपास रोड स्थित एक निजी अस्पताल में गई थी, जहां चिकित्सक डॉक्टर चौहान उसे जांच के बहाने केबिन में ले गए और ब्लड प्रेशर की मशीन लगाकर जांच करने लगे. लेकिन इसी बीच डॉक्टर लड़की के कपड़े उठाकर जांच करने लगे. वह कुछ बोल रही थी तो चिकित्सक ने वीडियो बना लिया.

फिर लड़की ने घर आकर सब कुछ अपने घर वालों को बता दिया. तो चिकित्सक ने उल्टा ही विवाद कर दिया. चिकित्सक ने लड़की के परिवार वालों को धमकी दी जिस वजह से परिजन शांत हो गए और कुछ नहीं कहा. लेकिन जब वीडियो वायरल हो गया तो परिजनों ने चिकित्सक के खिलाफ केस दर्ज कराया. चिकित्सक पर यह भी आरोप लगा है कि उसने लड़की के परिजनों को ब्लैकमेल कर उनसे पैसे वसूले हैं.

From around the web