राजस्थान सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, गलत तरीके से जेल से बाहर होना चाह रहा आसाराम

 
राजस्थान सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, गलत तरीके से जेल से बाहर होना चाह रहा आसाराम राजस्थान सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, गलत तरीके से जेल से बाहर होना चाह रहा आसारामनई दिल्ली, 9 जून (आईएएनएस)। राजस्थान सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया है कि स्वयंभू संत आसाराम बापू एम्स जोधपुर में डॉक्टरों के साथ सहयोग नहीं कर रहा है और हिरासत का स्थान बदलने का उसका मकसद गलत है।

राज्य सरकार ने स्पष्ट किया कि आसाराम चिकित्सा उपचार की आड़ में अपनी हिरासत की जगह बदलना चाहता है। राज्य सरकार ने दावा किया कि चिकित्सा उपचार की आड़ में आसाराम ने अपनी सजा को निलंबित करने का तीसरा प्रयास किया है।

राज्य सरकार ने आसाराम के आयुर्वेदिक इलाज की जमानत याचिका को चुनौती देते हुए एक हलफनामे में कहा, पिछले दौर की याचिकाओं में आरोपी ने एलोपैथिक तरीके से अपनी बीमारी का तुरंत इलाज कराने की प्रार्थना की थी, जो विफल रही और अब आरोपी इस वर्तमान याचिका के माध्यम से आयुर्वेद से अपना इलाज कराने के लिए अपनी चिंता व्यक्त की।

हलफनामे में कहा गया है कि आसाराम एम्स जोधपुर में डॉक्टरों के साथ सहयोग नहीं कर रहा था और 21 मई को डिस्चार्ज रिपोर्ट के अनुसार, उसने इंजेक्शन और कुछ दवा लेने से इनकार कर दिया था।

हलफनामे में कहा गया है कि आरोपी की हालत स्थिर है और उसे कोई अन्य जटिलता भी नहीं है। इसलिए आरोपी के किसी और सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में उपचार की कोई जरूरत नहीं है।

सरकार ने कहा कि आयुर्वेदिक चिकित्सक अरुण कुमार त्यागी आरोपी का इलाज कर रहे हैं, जो शीर्ष अदालत के आदेश के तहत जोधपुर आयुर्वेदिक अस्पताल से सेवानिवृत्त होने के बाद भी उसका इलाज करते रहे हैं। सरकार ने दावा किया कि आयुर्वेदिक उपचार की आड़ में आसाराम जानबूझकर गांधी नगर और जोधपुर में लंबित मुकदमे में देरी करने की कोशिश कर रहा है।

आसाराम ने प्रकाश दीप इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेदिक साइंसेज, उत्तराखंड में इलाज की अनुमति के लिए शीर्ष अदालत का रुख किया था। राजस्थान सरकार ने 23 मई को मेडिकल कार्ड को रिकॉर्ड में रखा, जिससे यह साबित हुआ कि आसाराम का स्वास्थ्य बिना किसी जटिलता के सामान्य पाया गया। हलफनामे में कहा गया है, आरोपी अपनी हिरासत के स्थान को स्थानांतरित करने के अपने गलत मकसद के कारण डॉक्टरों के साथ सहयोग नहीं कर रहा है।

हलफनामे में आगे कहा गया है, आरोपी/याचिकाकर्ता गलत मंशा से चिकित्सा उपचार की आड़ में अपनी हिरासत के स्थान को बदलने का प्रयास कर रहा है। इस तरह का बदलाव उचित सम्मान के साथ कानून की प्रक्रिया का दुरुपयोग है। सरकार ने कहा कि जोधपुर दुर्लभ केंद्रों में से एक है, जहां एलोपैथिक और आयुर्वेदिक दोनों उपचार उपलब्ध हैं।

पिछले हफ्ते, शीर्ष अदालत ने आसाराम बापू को अस्थायी रूप से आयुर्वेदिक उपचार केंद्र में स्थानांतरित करने की संभावना की जांच करने पर सहमति व्यक्त की थी। कोविड के बाद, उन्होंने उसे एलोपैथिक दवाएं नहीं देने का अनुरोध किया था।

इससे पहले, हाईकोर्ट ने सजा के अस्थायी निलंबन के लिए आसाराम के आवेदन को खारिज कर दिया था और जिला और जेल प्रशासन को एक उपयुक्त चिकित्सा संस्थान में उचित उपचार सुनिश्चित करने का निर्देश दिया था।

नाबालिग बच्ची से दुष्कर्म के मामले में आसाराम जोधपुर सेंट्रल जेल में उम्रकैद की सजा काट रहा है। वह 6 मई को कोविड-19 पॉजिटिव पाया गया था और उसे एम्स, जोधपुर में स्थानांतरित कर दिया गया था। 19 मई की मेडिकल रिपोर्ट के अनुसार, वह छुट्टी के लिए फिट था।

शीर्ष अदालत की ओर से इस मामले पर आगे की सुनवाई शुक्रवार को चलने की उम्मीद है।

--आईएएनएस

एकेके/एसजीके

From around the web