बीएचयू गर्ल्स हॉस्टल वार्डन की जलकर मौत

 
बीएचयू गर्ल्स हॉस्टल वार्डन की जलकर मौतवाराणसी, 20 जुलाई (आईएएनएस)। बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) की एक फैकल्टी सदस्य और सरोजिनी नायडू गर्ल्स हॉस्टल की वार्डन ने आत्महत्या कर ली।

सोमवार को 45 वर्षीय डॉक्टर किरण सिंह ने विश्वविद्यालय परिसर में अपने कमरे में खुद को आग लगा ली।

अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त विकास चंद्र त्रिपाठी ने कहा कि शुरूआती जांच में पता चला है कि वह लंबे समय से स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों से परेशान थी।

उन्होंने बताया कि शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है और आगे की जांच जारी है।

बीएचयू के आणविक और मानव आनुवंशिकी विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ सिंह अपने पति विवेक सिंह और बेटी स्वयंप्रभा के साथ सरोजिनी नायडू छात्रावास के वार्डन क्वार्टर में रहती थीं।

उनके पति ने पुलिस को बताया कि जब यह घटना हुई तो वह किसी काम से सिगरा गए थे, जबकि उनकी बेटी घर के ग्राउंड फ्लोर पर एक कमरे में खेल रही थी।

डॉ सिंह ने उनके घरेलू सहायक राजेंद्र को वापस भेज दिया था, जब वह घर की सफाई करने आए थे।

कुछ देर बाद स्वयंप्रभा ने पहली मंजिल पर धुंआ देखा और शोर मचाया।

प्रॉक्टोरियल बोर्ड के कर्मी घर की ओर दौड़े और दमकल को सूचना दी। हालांकि, इससे पहले कि कमरे में लगी आग बुझ पाती डॉ. सिंह की मौत हो चुकी थी।

लंका थाने के इंस्पेक्टर महेश पांडे ने कहा कि घटना स्थल के प्रारंभिक निरीक्षण के बाद यह संदेह है कि उन्होंने कमरे में आग लगाने के लिए कागजों को आग लगा दी थी।

पुलिस ने सबूत जुटाने के लिए फोरेंसिक विशेषज्ञों को भी बुलाया है।

--आईएएनएस

एसएस/आरजेएस

From around the web