कोलकाता पुलिस विकलांग लोगों की मदद के लिए दुभाषियों की करेगी व्यवस्था

 
कोलकाता पुलिस विकलांग लोगों की मदद के लिए दुभाषियों की करेगी व्यवस्थाकोलकाता, 26 नवंबर (आईएएनएस)। शारीरिक रूप से कमजोर (बहरे और गूंगे) शिकायतकर्ताओं द्वारा शिकायत दर्ज करने की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए कोलकाता पुलिस ने अपने नौ डिवीजनों में से प्रत्येक में एक दुभाषिया नियुक्त करने का निर्णय लिया है।

दुभाषिए न केवल शारीरिक रूप से विकलांग पीड़ितों को अपनी शिकायतें दर्ज कराने में मदद करेंगे बल्कि जांच प्रक्रिया में सक्रिय रूप से भाग लेंगे और इस प्रकार पुलिस बल की प्रभावशीलता को बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान देंगे।

कोलकाता के पुलिस आयुक्त सौमेन मित्रा ने राज्य पुलिस का कार्यभार संभालने के बाद इसमें कुछ नए बदलाव किए जिससे न केवल लोगों का विश्वास जीतने में मदद मिली, बल्कि साथ ही पुलिस बल की प्रभावशीलता को बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

उन्होंने कहा, इन दुभाषियों को प्रत्येक मंडल में रखा जाएगा और जब भी कोई मामला होगा, तो दुभाषिए मौके पर पहुंच जाएंगे। ये दुभाषिए अब प्रत्येक मंडल कार्यालय से काम करेंगे और अगर उन्हें कोई फोन आता है, तो वे मौके पर पहुंच जाते हैं।

पुलिस अधिकारी ने कहा, यह प्रायोगिक स्तर पर किया जा रहा है और अगर यह परियोजना सफल होती है तो इसे सभी पुलिस थानों में पेश किया जाएगा।

कोलकाता पुलिस के सूत्रों के अनुसार, हाल ही में एक विकलांग लड़की के साथ बलात्कार के एक मामले ने पुलिस आयुक्त को यह कदम उठाने के लिए प्रेरित किया।

उन्होंने कहा, एंटली पुलिस स्टेशन के अधिकारियों ने हाल ही में इस समस्या को महसूस किया। उन्होंने एक बलात्कार पीड़िता को बचाया जो न तो लिख सकती थी और न ही बोल और सुन सकती थी। समस्या को सुलझाने के लिए कोलकाता पुलिस के पास एक निजी दुभाषिया था।

उन्होंने कहा, दुभाषियों की अनुपस्थिति में, समस्याएं उत्पन्न होती हैं, जिसके कारण शिकायतें देर से दर्ज होती हैं और जांच में और देरी होती है। इसलिए शहर की पुलिस ने प्रत्येक पुलिस स्टेशन में कम से कम एक दुभाषिया नियुक्त करने का निर्णय लिया है।

--आईएएनएस

एसकेके/आरजेएस

From around the web