आंध्र पुलिस ने गोगुनुरु मंदिर की मूर्तियां तोड़े जाने का मामला 24 घंटे में दर्ज किया

 
आंध्र पुलिस ने गोगुनुरु मंदिर की मूर्तियां तोड़े जाने का मामला 24 घंटे में दर्ज कियागोगुनुरु (आंध्र प्रदेश), 7 अप्रैल (आईएएनएस)। आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले के गोनूगुरु गांव के एक मंदिर में मूर्तियां तोड़े जाने का मामला पुलिस ने घटना के 24 घंटे के भीतर बुधवार को दर्ज किया।

मंगलवार को कुप्पम शहरी पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज की गई कि कुछ अज्ञात उपद्रवियों ने एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित सुब्रमण्यम स्वामी मंदिर में मूर्तियों को नष्ट कर दिया है।

चित्तूर पुलिस ने मंदिर प्रबंधन, पुजारी और कुछ स्थानीय लोगों से मिली जानकारी पर मामले की जांच के लिए तुरंत तीन विशेष टीमों का गठन किया।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा, यह पता चला है कि मानसिक रूप से अस्थिर महिला ज्योति जो अक्सर मंदिर जाती थी, ने ताड़ी के नशे में 31 मार्च को मूर्तियों को ढहा दिया।

चित्तूर में पुलिस अधीक्षक (एसपी) सेंथिल कुमार ने कहा कि मंदिर काफी अलग-थलग स्थान पर स्थित है और भक्त शायद ही कभी वहां जाते हों, जब तक कि कोई विशेष अवसर न हो।

उन्होंने कहा कि मंदिर के पुजारी भी सप्ताह में केवल एक बार ही जाते हैं।

कुमार ने कहा, मंदिर प्रबंधन, पुजारी और स्थानीय लोगों ने ज्योति नाम से जाने वाली एक महिला पर अपना शक जताया। वह मानसिक रूप से अस्थिर है और स्थानीय लोगों के मुताबिक, अक्सर अजीबोगरीब समय पर मंदिर में जाती है।

पूछताछ के दौरान, ज्योति ने पुलिस को बताया कि उसने एक हफ्ते पहले एक स्थानीय दुकान में ताड़ी पीने के बाद मूर्तियों को तोड़ दिया।

ज्योति ने पुलिस को बताया कि उसने मूर्तियों को मंदिर से 20 मीटर दूर खाई में डाल दिया और उसी दिन वापस गांव चली गई और लोगों को बताया कि उसने मुरुगन को मार डाला है। लेकिन लोगों ने उसकी मानसिक स्थिति के कारण उसकी बात को गंभीरता से नहीं लिया।

आईपीएस अधिकारी ने कहा, मुरुगन को स्थानीय रूप से सुब्रमण्यम स्वामी कहा जाता है। मंगलवार को मंदिर में पुजारी के जाने के बाद यह मामला सामने आया।

--आईएएनएस

एसजीके

From around the web