केवल 500 रुपये में पोस्ट ऑफिस या बैंक में खुलवाएं ये खाता, जिनमें जमा पैसे कोर्ट भी नहीं कर पाएगा जब्त 

 
केवल 500 रुपये में पोस्ट ऑफिस या बैंक में खुलवाएं ये खाता, जिनमें जमा पैसे कोर्ट भी नहीं कर पाएगा जब्त

अगर आप टैक्स बचत के साथ-साथ बेहतर रिटर्न के लिए निवेश करने की कोई योजना तलाश रहे हैं तो आपके लिए पब्लिक प्रोविडेंट फंड एक अच्छा विकल्प हो सकता है. आप पोस्ट ऑफिस या बैंक में पीपीएफ खाता खुलवा सकते हैं, जिसमें निवेश करने पर आपको टैक्स कटौती का फायदा मिलता है और मैच्योरिटी के समय आपको बेहतर रिटर्न भी मिलता है. इतना ही नहीं इस खाते में जमा रकम को कोर्ट के आदेश के तहत जब्त भी नहीं किया जा सकता.

यह स्कीम मोदी सरकार द्वारा 2019 में लागू की गई थी जिसके नियमों में एक बड़ा बदलाव भी हुआ था. इस नियम के तहत खाताधारक के किसी भी लेन-देन या देनदारी की वसूली को लेकर कोर्ट के आदेश पर भी पीपीएफ खाते में जमा रकम जब्त नहीं की जा सकती. 

पीपीएफ अकाउंट की खास बातें 

आप खाता खोलने के 15 साल पूरे होने यानी मैच्योरिटी के बाद अगले 5 साल तक इसमें पैसे जमा कर सकते हैं. पीपीएफ की ब्याज दर भारत सरकार हर 3 महीने बाद निर्धारित करती है. 1 वित्त वर्ष में इस स्कीम में न्यूनतम ₹500 और अधिकतम 1.50 लाख रुपये कर सकते हैं. 1 साल में खाते में आपको ₹500 निवेश करना अनिवार्य है. अगर ऐसा नहीं होता तो आपका यह अकाउंट बंद हो जाएगा. 

आप पीपीएफ खाते में जमा राशि को खाता खोलने के 5 साल बाद कभी भी निकाल सकते हैं. पीपीएफ खाते को एक पोस्ट ऑफिस से दूसरे पोस्ट ऑफिस या बैंक में ट्रांसफर कर सकते हैं.

From around the web