हॉलीवुड और बॉलीवुड के पीछे क्यों किया जाता है वुड शब्द का इस्तेमाल? बहुत ही दिलचस्प है इसके पीछे की कहानी 

 
xbxb

आजकल विश्व भर में लगभग तकरीबन 5 लाख भाषाओं में फिल्में बनती हैं. दुनिया में फिल्म इंडस्ट्री के बड़े-बड़े कारोबार है. हॉलीवुड हो या बॉलीवुड हर रोज यहां करोड़ों की कमाई की जाती है. हॉलीवुड के बाद बॉलीवुड दुनिया की सबसे बड़ी फिल्म इंडस्ट्री है. बॉलीवुड में लगभग हर साल हजार से ज्यादा फिल्में बनती हैं. दुनिया में अलग-अलग देशों की फिल्म इंडस्ट्री को हॉलीवुड, बॉलीवुड, टॉलीवुड जैसे नामों से जाना जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि आखिर यह शब्द कहां से आया और इसकी शुरुआत कब से हुई. आइए जानते हैं- 

वुड शब्द का इस्तेमाल करने की शुरुआत सबसे पहले अमेरिका से हुई. इस शब्द का इस्तेमाल  एच.जे. व्हिटली ने किया था, जिन्हें हॉलीवुड का जनक कहा जाता है.  हालांकि अमेरिकन फिल्म इंडस्ट्री का नाम हॉलीवुड रखने के पीछे एक बहुत ही दिलचस्प कहानी है. 

हॉलीवुड अमेरिका में लॉस एंजिलिस शहर में स्थित एक जिला है. इसी के नाम पर  एच.जे. व्हिटली ने अमेरिकन फिल्म इंडस्ट्री हॉलीवुड का नाम रखा. 1903 में हॉलीवुड जिले को नगर पालिका का दर्जा दिया गया, जिसके बाद लॉस एंजिल्स प्रमुख फ़िल्म उद्योग के रूप में उभरा और हॉलीवुड का नाम दुनियाभर में मशहूर हो गया. 1

960 में पहली बार फ्लोरिडा में तकरीबन 30 कंपनियों ने फिल्म के निर्माण का कार्य शुरू किया था. 1911 में लॉस एंजिल्स में भी फिल्म निर्माण की शुरुआत हुई. 1912 के बाद अमेरिकन फिल्म इंडस्ट्री में बड़े पैमाने पर फिल्में बनने लगी. कुछ सालों में लॉस एंजिल्स का नाम हॉलीवुड के नाम से मशहूर हो गया. 

हॉलीवुड की तर्ज पर 1960 में बॉम्बे शहर के नाम पर बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री की शुरुआत हुई. हिंदी फिल्म इंडस्ट्री को दुनिया भर में बॉलीवुड के नाम से जाना जाता है. पाकिस्तान के लाहौर को फिल्म इंडस्ट्री का गढ़ माना जाता है, जिस कारण उसका नाम लॉलीवुड रखा गया. भारत में तमिल इंडस्ट्री कॉलीवुड के नाम से जाना जाता है. तेलुगु फिल्म इंडस्ट्री को टॉलीवुड के नाम से जाना जाता है. वही कन्नड़ फिल्म इंडस्ट्री को सैंडलवुड के नाम से जाना जाता है.

From around the web