जानिए अब कहां है खूंखार विलेन चिकारा, जिसने 90 के दशक में लोगों को फिल्मों में खूब डराया

 
MKKL

फिल्म चाहे बॉलीवुड की हो या टॉलीवुड की, विलेन की भूमिका बहुत ही महत्वपूर्ण रहती है. 80-90 के दशक में भी फिल्मों में विलेन का किरदार बहुत महत्वपूर्ण होता था. हालांकि अब फिल्मों में विलेन का किरदार उतना ज्यादा खतरनाक नजर नहीं आता है. 90 के दशक में विलेन खूंखार होता था कि उसे देखकर लोग डर जाते थे और सोचते थे कि अगर वह सामने दिख जाए तो हम उसे गोलियों से भून डालें.

90 के दशक का एक खूंखार विलेन चिकारा आपको याद होगा. यह किरदार रामी रेड्डी ने निभाया था. उन्होंने अपनी दमदार एक्टिंग से अपनी एक अलग पहचान बनाई थी. रामी रेड्डी का पूरा नाम गंगासानी रामी रेड्डी था. उन्होंने साउथ फिल्मों में भी काम किया.

रामी रेड्डी ने बॉलीवुड में फिल्म वक्त हमारा है से पहचान बनाई. ये फिल्म 1993 में रिलीज हुई, जिसमें अक्षय कुमार और सुनील शेट्टी मुख्य भूमिका में थे. इस फिल्म में रामी रेड्डी ने कर्नल चिकारा की भूमिका निभाई थी. लोगों को उनका यह किरदार बहुत ही ज्यादा पसंद आया था और फिर वह 1994 में दिलवाले फिल्म में बंशुल सिंह विलेन के किरदार में नजर आए.

रामी रेड्डी फिल्मों में विलेन का किरदार इतना अच्छा निभाते थे कि लोग असल जिंदगी में भी उनसे डरते थे. वह हिंदी फिल्मों के अलावा तेलुगु, तमिल, कन्नड़, मलयालम, भोजपुरी फिल्मों में भी सक्रिय रहे. उन्होंने अपने करियर में 250 से ज्यादा फिल्में की. लेकिन लीवर और किडनी की बीमारी के चलते 14 अप्रैल 2011 को उनका निधन हो गया और उस समय वह केवल 52 साल के थे. आज भी लोग उन्हें चिकारा के नाम से जानते हैं.

From around the web