जब दिनेश कार्तिक के कारण टीम इंडिया में खतरे में पड़ गई थी रोहित शर्मा की जगह, तब माही के एक मास्टर स्ट्रोक ने हिटमैन के करियर में लगा दिए चार चांद

जब दिनेश कार्तिक के कारण टीम इंडिया में खतरे में पड़ गई थी रोहित शर्मा की जगह, तब माही के एक मास्टर स्ट्रोक ने हिटमैन के करियर में लगा दिए चार चांद
TheDesiawaaz Desk 
जब दिनेश कार्तिक के कारण टीम इंडिया में खतरे में पड़ गई थी रोहित शर्मा की जगह, तब माही के एक मास्टर स्ट्रोक ने हिटमैन के करियर में लगा दिए चार चांद

वर्तमान में भारतीय टीम के कप्तान और बेहतरीन सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं. उनकी गिनती भारत के सबसे कुशल बल्लेबाजों में की जाती है. रोहित शर्मा के नाम क्रिकेट के खेल में कई अनगिनत रिकॉर्ड दर्ज है. लेकिन एक समय ऐसा भी था जब रोहित शर्मा की जगह दिनेश कार्तिक के कारण खतरे में पड़ गई थी. लेकिन तब धोनी के एक मास्टर स्ट्रोक ने उनका करियर चमका दिया. एक दशक पहले रोहित शर्मा के साथ धोनी ने एक बड़ा प्रयोग किया था, जिसे विश्व क्रिकेट में भारत के सबसे बड़े जुए में से एक कहा जाता है.

जब दिनेश कार्तिक के कारण टीम इंडिया में खतरे में पड़ गई थी रोहित शर्मा की जगह, तब माही के एक मास्टर स्ट्रोक ने हिटमैन के करियर में लगा दिए चार चांद

2013 की चैंपियंस ट्रॉफी से पहले अभ्यास मैच में दिनेश कार्तिक ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नाबाद 146 रन बनाकर प्लेइंग इलेवन में अपनी दावेदारी पेश की थी. उस समय रोहित शर्मा ओपनिंग नहीं करते थे. वह नंबर चार या पांच पर बल्लेबाजी के लिए उतरते थे. तब ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि रोहित शर्मा की जगह दिनेश कार्तिक को प्लेइंग इलेवन में मौका मिलेगा. हालांकि उसी समय महेंद्र सिंह धोनी ने एक बड़ा मास्टर खेल दिया. उन्होंने शिखर धवन के साथ रोहित शर्मा को ओपनिंग के लिए उतारा. 

धोनी के इस फैसले को सबसे बड़ा जुआ बताया गया था. लेकिन धोनी के इस फैसले ने रोहित शर्मा की किस्मत बदल दी और उनके करियर में एक नई जान डाल दी. भारतीय टीम के पूर्व फील्डिंग कोच आर श्रीधर ने इस बात का खुलासा किया था कि धोनी रोहित से ओपनिंग कराने के लिए काफी उत्सुक थे और उन्होंने 2013 चैंपियंस ट्रॉफी में रोहित को ओपनिंग के लिए भेजने का निर्णय लिया था. श्रीधर ने कहा- अभ्यास मैच में दिनेश कार्तिक अच्छी बल्लेबाजी कर रहे थे. लेकिन रोहित को खिलाना था. टीम प्रबंधन में ज्यादातर फैसले कप्तान धोनी के ही रहते थे. उन्होंने रोहित शर्मा को शीर्ष क्रम में उतारने का फैसला किया, जो कि शानदार कदम था.

From around the web