धोनी की वजह से 2008 में ही संन्यास ले लेते वीरेंद्र सहवाग, वो तो इस दिग्गज खिलाड़ी ने रोक लिया नहीं तो......

धोनी की वजह से 2008 में ही संन्यास ले लेते वीरेंद्र सहवाग, वो तो इस दिग्गज खिलाड़ी ने रोक लिया नहीं तो......
 
धोनी की वजह से 2008 में ही संन्यास ले लेते वीरेंद्र सहवाग, वो तो इस दिग्गज खिलाड़ी ने रोक लिया नहीं तो......

भारतीय विस्फोटक ओपनर बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने एक बार फिर से अपने संन्यास को लेकर बड़ा बयान दिया है. उनका कहना है कि जब धोनी ने ऑस्ट्रेलिया दौरे पर उन्हें वनडे प्लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया था तो वह बहुत निराश हो गए थे और इस फॉर्मेट से संन्यास लेने की सोचने लगे थे. वह संन्यास ले भी लेते, लेकिन उन्हें एक दिग्गज क्रिकेटर ने ऐसा करने से रोक लिया था.

धोनी की वजह से 2008 में ही संन्यास ले लेते वीरेंद्र सहवाग, वो तो इस दिग्गज खिलाड़ी ने रोक लिया नहीं तो......

हाल ही में सहवाग ने बताया कि 2008 में हम जब ऑस्ट्रेलिया दौरे पर थे तो मेरे दिमाग में संन्यास लेने का खयाल आया था. मैंने टेस्ट सीरीज में वापसी की थी और 150 रन बनाए थे. लेकिन मैं तीन-चार वनडे मैचों में रन नहीं बना पाया, जिस वजह से मुझे धोनी ने प्लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया और मैंने तब वनडे क्रिकेट छोड़ने का मन बना लिया था. मैं सोचने लगा था कि अब केवल टेस्ट क्रिकेट ही खेलूंगा. 

सहवाग के लिए वह साल बहुत ही मुश्किल रहा था. टेस्ट टीम से बाहर होने के बाद घरेलू क्रिकेट में भी वह रन नहीं बना पा रहे थे. लेकिन कुछ समय कड़ी मेहनत के बाद उन्होंने टीम इंडिया में वापसी की और फिर विश्व कप विजेता टीम का हिस्सा भी बने. 

सहवाग ने बताया कि उन्हें संन्यास की घोषणा करने से सचिन तेंदुलकर ने रोक लिया था. उन्होंने मुझसे कहा कि यह जिंदगी का बुरा दौर है, जो थोड़े इंतजार के बाद खत्म हो जाएगा. उन्होंने मुझसे कहा था कि थोड़ा इंतजार करो और घर जाओ. फिर अच्छे से सोचो और फैसला करो कि आगे क्या करना है. अच्छी बात यह रही कि मैं नहीं तब संन्यास की घोषणा नहीं की.

From around the web