IPL में अंपायरों को दी जाती है इतनी सैलरी जाने, किस तरह किया जाता है सिलेक्शन

IPL में अंपायरों को दी जाती है इतनी सैलरी जाने, किस तरह किया जाता है सिलेक्शन
 
IPL में अंपायरों को दी जाती है इतनी सैलरी जाने, किस तरह किया जाता है सिलेक्शन

जब भी क्रिकेट के खेल की बात होती है तो लोगों के मन में केवल खिलाड़ियों का ही विचार आता है. लेकिन खिलाड़ियों के अलावा मैच में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका अंपायरों की होती है. अंपायर का फैसला ही पूरे मैच की जीत-हार तय करता है. आज हम आपको अंपायरों की फीस के बारे में बताने जा रहे हैं

IPL में अंपायरों को दी जाती है इतनी सैलरी जाने, किस तरह किया जाता है सिलेक्शन

जानकारी के लिए बता दें कि आईपीएल में अंपायर की दो श्रेणी होती है, जिसमें एलिट अंपायर और एंट्री लेवल अंपायर होते है. रिपोर्ट के मुताबिक एलिट अंपायर को 2700 डॉलर से 3200 डॉलर यानी लगभग 1,92,000 रुपए दिए जाते हैं. जबकि एंट्री लेवल को अंपायर हर मैच के लिए 1000 डॉलर दिए जाते हैं. पूरे आईपीएल सीजन में एलिट अंपायरों को तकरीबन60 हजार डॉलर यानी कि 3.50 करोड़ रुपए मिलते हैं. वही एंट्री लेवल अंपायर को लगभग 20 हजार डॉलर तक की कमाई होती है.

कैसे होती है अंपायरों की सैलरी? 

खेल वेबसाइटों की खबर के मुताबिक, वनडे और टेस्ट मैच में अंपायरों की सैलरी टूर्नामेंट पर निर्भर करती है. जबकि औसत अंदाजा लगाया जाए तो उनकी बेसिक सैलरी 30 हजार डॉलर से 50 हजार डॉलर के बीच होती है और टेस्ट मैच में $3000 और वनडे के लिए $1000 दिए जाते हैं. 

अंपायर बनने के लिए क्रिकेट के 42 नियमों की जानकारी होना आवश्यक है. साथ ही क्रिकेट की बेहतरीन समझ होनी चाहिए. अंपायर का व्यवहार भी बहुत मायने रखता है. अंपायर बनने के लिए राज्य स्तरीय स्पोर्ट बॉडियों द्वारा समय-समय पर प्रयोगात्मक परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं. 

यदि कोई व्यक्ति परीक्षा को पास कर लेता है, तब उसे बीसीसीआई के द्वारा आयोजित की जाने वाली अंपायरिंग परीक्षा में बैठने के लिए योग्य माना जाता है. यदि कोई व्यक्ति दूसरे स्तर की परीक्षा पास कर लेता है तो बीसीसीआई पैनल के लिए उसे चुन लिया जाता है और कुछ दिनों तक राष्ट्रीय मैचों में अंपायरिंग करने के बाद व्यक्ति को अंतरराष्ट्रीय मैचों में अंपायरिंग करने का मौका दिया जाता है.

From around the web