ये टीम इंडिया बिल्कुल नई है, खिलाड़ियों को खुलकर खेलने की आजादी है, पहला टी-20 जीतने के बाद रोहित शर्मा का बड़ा बयान

ये टीम इंडिया बिल्कुल नई है, खिलाड़ियों को खुलकर खेलने की आजादी है, पहला टी-20 जीतने के बाद रोहित शर्मा का बड़ा बयान
TheDesiawaaz Desk 
ये टीम इंडिया बिल्कुल नई है, खिलाड़ियों को खुलकर खेलने की आजादी है, पहला टी-20 जीतने के बाद रोहित शर्मा का बड़ा बयान

भारतीय टीम ने रोहित शर्मा की कप्तानी में वेस्टइंडीज के विरुद्ध पहले T20 मैच में बड़ी जीत हासिल की. इस जीत के बाद रोहित शर्मा ने बड़ा बयान दिया. उनका मानना है कि इस फॉर्मेट में अपनाए गए निर्भीक रवैये से कभी-कभार ही टीम को असफलता मिलती है. लेकिन ज्यादातर बार सफलता ही मिलती है. हालांकि उन्होंने इस बात को भी स्वीकार किया कि पिछले साल यूएई में हुए टी-20 वर्ल्ड कप के दौरान टीम ने रूढ़िवादी रुख अपनाया था.

ये टीम इंडिया बिल्कुल नई है, खिलाड़ियों को खुलकर खेलने की आजादी है, पहला टी-20 जीतने के बाद रोहित शर्मा का बड़ा बयान

रोहित शर्मा ने कहा- नए खिलाड़ियों को स्वतंत्रता मिली है, जिससे कि विश्वकप के निराशाजनक अभियान के बाद टीम को सफलता मिली. दूसरे दौर से भारत विश्व कप में आगे नहीं बढ़ पाया था. रोहित ने कहा- हम पिछले विश्व कप में अनुकूल परिणाम हासिल नहीं कर पाए थे. लेकिन इसका यह बिल्कुल भी मतलब नहीं है कि हमने इतने सालों में खराब क्रिकेट खेला और मैं इस बात से सहमत नहीं हूं कि हम रूढ़िवादी क्रिकेट खेल रहे हैं. विश्व कप में अगर हम एक या दो मैच हार जाते हैं तो इसका यह मतलब नहीं है कि हमने मौके का फायदा नहीं उठाया.

अगर आप विश्वकप से पहले हमारा प्रदर्शन देखें तो हमने 80% मैच जीते. अगर हमने रूढ़िवादी तरीका अपनाया तो फिर हम इतने मैच कैसे जीत सकते थे. हम विश्वकप हार गए, यह बात सही है. ऐसा होता है. इसका यह बिल्कुल भी मतलब नहीं है कि हम खुलकर नहीं खेल रहे थे. हालांकि अब पहले की अपेक्षा खिलाड़ियों को अपना नैसर्गिक खेल खेलने की ज्यादा छूट मिल गई है. हर कोई सीख रहा है और कुछ अलग करने की कोशिश कर रहा है. थोड़ी बहुत गलतियां तो सबसे होती है. लेकिन हम खराब खेल रहे हैं, यह सही नहीं है.

From around the web