इस भारतीय स्टार क्रिकेटर की बचपन में ही कट गई थी उंगली, डेब्यू मैच में रचा था इतिहास, लेकिन धोनी की वजह से खत्म हो गया करियर

इस भारतीय स्टार क्रिकेटर की बचपन में ही कट गई थी उंगली, डेब्यू मैच में रचा था इतिहास, लेकिन धोनी की वजह से खत्म हो गया करियर
 
इस भारतीय स्टार क्रिकेटर की बचपन में ही कट गई थी उंगली, डेब्यू मैच में रचा था इतिहास, लेकिन धोनी की वजह से खत्म हो गया करियर

महेंद्र सिंह धोनी भारत के महान कप्तानों में गिने जाते हैं. धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने आईसीसी के 3 बड़े खिताब जीते हैं. धोनी के विकेटकीपर रहते भारतीय टीम में कई खिलाड़ी आए और गए, लेकिन धोनी की जगह कोई नहीं ले पाया. भारतीय क्रिकेट जगत में एक से बढ़कर एक प्रतिभावान खिलाड़ी हैं. लेकिन धोनी की चमक के आगे वह फीके पड़ गए. ऐसे ही एक क्रिकेटर के बारे में हम आपको बता रहे हैं, जिसका कैरियर धोनी की वजह से खत्म हो गया.

इस भारतीय स्टार क्रिकेटर की बचपन में ही कट गई थी उंगली, डेब्यू मैच में रचा था इतिहास, लेकिन धोनी की वजह से खत्म हो गया करियर

वो खिलाड़ी हैं पार्थिव पटेल. पार्थिव पटेल ने 8 अगस्त 2002 को इंग्लैंड के विरुद्ध टेस्ट डेब्यू किया था और वह विकेटकीपर बल्लेबाज के रूप में टेस्ट में डेब्यू करने वाले सबसे युवा खिलाड़ी बन गए थे. उस समय उनकी उम्र 17 साल 153 दिन थी और आज तक उनका यह रिकॉर्ड कायम है.

9 साल की उम्र में कट गई थी उंगली 

पार्थिव पटेल जब केवल 9 साल के थे तो उनके हाथ की एक उंगली कट गई थी. फिर भी उन्होंने हार नहीं मानी और वह लगातार मेहनत करते रहे. वह सुबह लगभग 4:00 बजे उठकर अपने चाचा के स्कूटर पर बैठकर 60 किलोमीटर दूर क्रिकेट की प्रैक्टिस करने जाते थे.

हालांकि जब 2004 में महेंद्र सिंह धोनी ने भारतीय टीम में डेब्यू किया तो फिर पार्थिव पटेल के लिए भारतीय टीम में रहना मुश्किल हो गया. धोनी विकेटकीपर बल्लेबाज के रूप में लगातार अच्छा प्रदर्शन करते रहे और फिर भारतीय टीम के कप्तान बन गए. धोनी की वजह से पार्थिव पटेल को भारतीय टीम में खेलने के ज्यादा मौके नहीं मिले.

From around the web