वनडे क्रिकेट का अस्तित्व पड़ा खतरे में, दिग्गज क्रिकेटर बोला- बहुत बोरिंग होता है और इसे कोई याद तक नहीं रखता

वनडे क्रिकेट का अस्तित्व पड़ा खतरे में, दिग्गज क्रिकेटर बोला- बहुत बोरिंग होता है और इसे कोई याद तक नहीं रखता
 
वनडे क्रिकेट का अस्तित्व पड़ा खतरे में, दिग्गज क्रिकेटर बोला- बहुत बोरिंग होता है और इसे कोई याद तक नहीं रखता

पूर्व भारतीय हेड कोच रवि शास्त्री ने हाल ही में यह बयान दिया था कि द्विपक्षीय T20 अंतरराष्ट्रीय सीरीज बंद कर देनी चाहिए और केवल वर्ल्ड कप ही होने चाहिए, जैसा फुटबॉल में होता है. लेकिन अब पूर्व भारतीय क्रिकेटर आकाश चोपड़ा ने वनडे क्रिकेट को लेकर बड़ा बयान दे दिया है. उनका कहना है कि अब वनडे क्रिकेट में बदलाव का समय आ गया है, क्योंकि 50 ओवर का मैच कोई याद नहीं रखता.

वनडे क्रिकेट का अस्तित्व पड़ा खतरे में, दिग्गज क्रिकेटर बोला- बहुत बोरिंग होता है और इसे कोई याद तक नहीं रखता

अपने यूट्यूब चैनल पर आकाश चोपड़ा ने एक वीडियो शेयर किया, जिसमें उन्होंने वनडे क्रिकेट को बोरिंग प्रारूप बताते हुए कहा कि अगर आप इंटरेस्ट लेवल देखते हैं तो टेस्ट को अलग रखना, क्योंकि व्यवसायीकरण नहीं है. मुझे लगता है कि वनडे क्रिकेट सबसे ज्यादा बोरिंग है. यह सबसे अर्थहीन है और यह वो फॉर्मेट है, जिसे कोई याद नहीं रखता.

पूर्व भारतीय बल्लेबाज ने तो यह भी कहा कि 50 ओवर का खेल ना तो प्रसारकों को और ना ही दर्शकों को अच्छा लगता है. 50 ओवर के क्रिकेट में बीच में 30 ओवर ना तो टेस्ट जैसे होते हैं और ना ही टी-20 जैसा खेला जाता है. वनडे ऐसा प्रारूप है, जो लंबे समय तक व्यस्त रखने वाला नहीं है.

आकाश चोपड़ा ने यह भी कहा कि इस समय वनडे क्रिकेट अपने अस्तित्व को लेकर संघर्ष कर रहा है. टी-20 में बदलाव की जरूरत नहीं है क्योंकि इसके बिना प्रसारक आपको पैसा नहीं देंगे. बता दें कि जब से T20 क्रिकेट शुरू हुआ, तब से वनडे क्रिकेट और टेस्ट क्रिकेट की लोकप्रियता बहुत कम हो गई है. आकाश चोपड़ा के अलावा कई और दिग्गज क्रिकेटरों ने T20 क्रिकेट को जारी रखने की मांग की है.

From around the web