वो खतरनाक गेंदबाज जिसने कप्तान के बीमर मारने से रोकने पर नाराज होकर लंच ब्रेक में अड़ा दी चाकू

वो खतरनाक गेंदबाज जिसने कप्तान के बीमर मारने से रोकने पर नाराज होकर लंच ब्रेक में अड़ा दी चाकू
TheDesiawaaz Desk 
वो खतरनाक गेंदबाज जिसने कप्तान के बीमर मारने से रोकने पर नाराज होकर लंच ब्रेक में अड़ा दी चाकू

तेज गेंदबाजों की भूमिका टेस्ट क्रिकेट में हमेशा से ही काफी महत्वपूर्ण रही है. जब गेंदबाज अपनी पूरी लय में होता है तो टेस्ट क्रिकेट का रोमांच बहुत बढ़ जाता है. वेस्टइंडीज में एक समय बहुत खतरनाक तेज गेंदबाज थे, जिनसे बड़े-बड़े बल्लेबाज भी खौफ खाते थे. एक ऐसा ही गेंदबाज था जो गुस्सैल स्वभाव का था और इस गेंदबाज का सामना करने से बल्लेबाजों को डर लगता था.

वो खतरनाक गेंदबाज जिसने कप्तान के बीमर मारने से रोकने पर नाराज होकर लंच ब्रेक में अड़ा दी चाकू
 
उस गेंदबाज का नाम था रॉय गिलक्रिस्ट, जो कभी-कभी बहुत अटैकिंग मोड में आ जाते थे और जब उन्हें विकेट नहीं मिलता था तो वह बाउंसर डालना शुरू कर देते थे और गेंद को बल्लेबाजों के शरीर पर मरते थे. एक समय क्रिकेट में गेंदबाजों के लिए कोई सीमा नहीं थी. वह जितने चाहे बाउंसर डाल सकता था. 1957 में रॉय गिलक्रिस्ट ने अंतरराष्ट्रीय डेब्यू किया था.

1958-59 में वेस्टइंडीज टीम के साथ भारत दौरे पर आई थे, जहां पांच मैचों की सीरीज खेली गई थी. इससे पहले वेस्टइंडीज टीम ने नॉर्थ जॉन के खिलाफ एक वॉर्मअप मैच खेला था. इस मैच में नॉर्थ जॉन के कप्तान स्वर्णजीत सिंह बल्लेबाजी कर रहे थे तो लंच के लिए आखिरी ओवर बचा था. यह ओवर एलेग्जेंडर ने रॉय गिलक्रिस्ट को दे दिया और उन्होंने दूसरी गेंद यॉर्कर डाली.

स्वर्णजीत सिंह ने चौका लगा दिया. लेकिन इसके बाद रॉय का माथा ठनक गया और उन्होंने बाउंसर डालना शुरू कर दिया. लेकिन रॉय को उनके कप्तान अलेक्जेंडर ने रोक दिया और बीमर ना डालने को कहा. इस वजह से रॉय और ज्यादा गुस्सा हो गए और लगातार बीमर फेंकने लगे. इस बात से एलेग्जेंडर इतना नाराज हुए कि उन्होंने यह बयान दे दिया कि आप अगली फ्लाइट से वापस जा रहे हैं. यह सुनते ही रॉय नाराज हो गए और उन्होंने चाकू उठा लिया और फिर कभी क्रिकेट नहीं खेला.

From around the web