वो गेंदबाज जिसकी जानबूझकर की गई नो-बॉल के कारण 1 रन से शतक पूरा करने से चूक गए थे सहवाग

वो गेंदबाज जिसकी जानबूझकर की गई नो-बॉल के कारण 1 रन से शतक पूरा करने से चूक गए थे सहवाग
TheDesiawaaz Desk 
वो गेंदबाज जिसकी जानबूझकर की गई नो-बॉल के कारण 1 रन से शतक पूरा करने से चूक गए थे सहवाग

भारत और श्रीलंका के बीच क्रिकेट के मैदान पर अक्सर कड़ी प्रतिद्वंदिता देखने को मिलती है. हालांकि बीते कुछ सालों से श्रीलंका के प्रदर्शन में गिरावट आई है. दोनों टीमों के बीच होने वाले मुकाबले बेहद रोमांचक होते थे. ऐसा ही एक मैच साल 2010 में खेला गया था. जिसमें टीम इंडिया ने जीत हासिल की थी. इस मैच में वीरेंद्र सहवाग 99 रन पर खेल रहे थे. लेकिन वह छक्का लगाने के बावजूद भी अपना शतक पूरा नहीं कर पाए थे. आपको यह बात जानकर हैरानी होगी. लेकिन ऐसा हकीकत में हुआ था.

वो गेंदबाज जिसकी जानबूझकर की गई नो-बॉल के कारण 1 रन से शतक पूरा करने से चूक गए थे सहवाग

2010 में भारत, श्रीलंका और न्यूजीलैंड के बीच ट्राई सीरीज खेली गई थी. सीरीज के तीसरे मैच में भारत श्रीलंका का मुकाबला हुआ. पहले बल्लेबाजी करते हुए श्रीलंका की टीम 46.1 ओवर में केवल 170 रन ही बना सकी. लक्ष्य का पीछा करते हुए भारतीय टीम ने 34 ओवर में 4 विकेट के नुकसान पर 166 रन बना लिए. भारतीय टीम को जीत के लिए 5 रनों की जरूरत थी. श्रीलंका की ओर से 35वां ओवर स्पिनर सूरज रंदीव ने डाला. सूरज की पहली गेंद पर सहवाग बीट हुए और विकेटकीपर भी उसे नहीं पकड़ पाए और गेंद सीधा बाउंड्री के पास पार चली गई. ऐसी टीम इंडिया को बाई के 4 रन मिल गए और दोनों टीमों का स्कोर बराबर हो गया.

अब भारत को जीत के लिए केवल 1 रन चाहिए था. उस समय सहवाग 99 रन पर खेल रहे थे. सूरज की अगली दो गेंदों पर सहवाग रन नहीं बना पाए. लेकिन सहवाग ने चौथी गेंद पर क्रीज से आगे निकलकर छक्का लगाया और वह जीत और शतक का जश्न मनाने लगे. लेकिन उसी समय अंपायर ने गेंद को नो बॉल करार दे दिया. भारत तो मैच जीत गया. लेकिन नो बॉल के कारण सहवाग के खाते में 6 रन नही जुड़ सके और वह अपना शतक पूरा करने से चूक गए. सहवाग को 99 रन पर ही नाबाद पवेलियन लौटना पड़ा.

स्क्रीन पर रिप्ले में दिखाया गया तो तो रंदीव क्रीज का आगे वाला पैर क्रीज से काफी बाहर था. सहवाग को ये समझते देर नहीं लगी कि रंदीव ने उन्हें शतक से रोकने के लिए जानबूझकर नो-बॉल फेंकी थी. मैच के बाद सहवाग ने इस हरकत के लिए रंदीव को फटकार भी लगाई थी. तब सहवाग ने कहा था- हां, यह जानबूझकर किया गया था. इसे आप लोग समझ सकते हैं इसे आप नो-बॉल से समझ सकते हैं. क्योंकि रंदीव का पैर क्रीज से बहुत ज्यादा बाहर था. अब तक उन्होंने टेस्ट में नो-बॉल नहीं फेंकी थी. उन्होंने इस मैच से पहले वनडे में भी ऐसा नहीं किया था. मैं 99 रन पर खेल रहा था. तब उन्होंने क्यों नो-बॉल फेंकी?. और वो भी छोटी-मोटी नहीं. उनका पैर क्रीज से करीब एक फीट बाहर था.

From around the web