वो रोमांचक मुकाबला जिसमें गेंदबाज ने बल्लेबाज को स्टंप से मारा और दर्शकों ने खिलाड़ियों पर बरसाए पत्थर

वो रोमांचक मुकाबला जिसमें गेंदबाज ने बल्लेबाज को स्टंप से मारा और दर्शकों ने खिलाड़ियों पर बरसाए पत्थर
 
वो रोमांचक मुकाबला जिसमें गेंदबाज ने बल्लेबाज को स्टंप से मारा और दर्शकों ने खिलाड़ियों पर बरसाए पत्थर

क्रिकेट के मैदान पर खिलाड़ियों के बीच अक्सर नोकझोंक देखने को मिलती है. लेकिन कई बार ऐसा हुआ है जब हाथापाई की नौबत तक आ गई. एक ऐसे ही मैच के बारे में हम आपको बता रहे हैं, जिसमें खिलाड़ियों के बीच विवाद हुआ था और गेंदबाज ने बल्लेबाज को स्टंप से मार दिया था. इतना ही नहीं इस बात से गुस्साई भीड़ ने खिलाड़ियों पर पत्थर फेंके थे.

वो रोमांचक मुकाबला जिसमें गेंदबाज ने बल्लेबाज को स्टंप से मारा और दर्शकों ने खिलाड़ियों पर बरसाए पत्थर

यह घटना है 1990 के दिलीप ट्रॉफी फाइनल मुकाबले की. वेस्ट जोन और नॉर्थ जोन के बीच जमशेदपुर में मैच खेला गया था, जिसमें विनोद कांबली, रवि शास्त्री, अजय जडेजा, कपिल देव जैसे दिग्गज भी खेल रहे थे. पहले बल्लेबाजी करते हुए नॉर्थ जोन ने 9 विकेट खोकर 729 रन बनाए, जिसके जवाब में वेस्ट जोन की टीम 561 रन बनाकर ढेर हो गई.

मैच के पांचवें दिन एक बार फिर से नॉर्थ जोन बल्लेबाजी करने उतरी. अजय जडेजा और रमन लांबा ओपनिंग करने आए. नॉर्थ जोन का स्कोर 59 रन पर पहुंच चुका था. तब राशिद पटेल गेंदबाजी कर रहे थे. वह लगातार लांबा को डेंजर एरिया के पास गेंद फेंक रहे थे, जिससे नाराज लांबा ने उनकी शिकायत अंपायर से कर दी. 

राशिद इस बात से खिसिया गए और उन्होंने नौवें ओवर की पांचवी गेंद क्रीज के डेढ़ हाथ आगे से फेंकते हुए बीमर मार दी और गेंद रमन लांबा के सिर पर जाकर लगी. वह किसी तरह बच गए. लेकिन राशिद ने अपनी हरकतें बंद नहीं की. राशिद ने गुस्से में स्टंप उखाड़ा और रमन लांबा के पीछे दौड़ पड़े. लांबा भाग रहे थे और वह अजय जडेजा के पीछे जाकर छुप गए. उन्हें लगा था कि राशिद उन्हें नहीं मारेंगे.

लेकिन राशिद ने स्टंप अजय जडेजा को ही दे मारा. तब बाकी खिलाड़ी भी वहां पहुंच गए और मामले को शांत कराया गया. लेकिन मैदान में बैठी जनता यह नजारा देख भड़क गई और खिलाड़ियों पर पत्थर फेंकने लगी. इस वजह से विनोद कांबली चोटिल हो गए, जो वहां फील्डिंग कर रहे थे. यह मैच इसी वजह से रद्द कर दिया गया था और राशिद पटेल पर 13 महीने और लांबा पर 10 महीने का बैन लगा था.

From around the web