IPL आयोजन पर PCB ने बनाई अड़ंगा लगाने की योजना, अन्य देश के क्रिकेट बोर्ड को भी कर रहा है शामिल

IPL आयोजन पर PCB ने बनाई अड़ंगा लगाने की योजना, अन्य देश के क्रिकेट बोर्ड को भी कर रहा है शामिल
 
IPL आयोजन पर PCB ने बनाई अड़ंगा लगाने की योजना, अन्य देश के क्रिकेट बोर्ड को भी कर रहा है शामिल

इंडियन प्रीमियर लीग भारत की नहीं बल्कि दुनिया की सबसे महंगी और प्रसिद्ध लोकप्रिय क्रिकेट ठीक है. हाल ही में आईपीएल के अगले 5 साल के मीडिया के माध्यम से बीसीसीआई को 46000 करोड़ से ज्यादा की कमाई हुई. भारतीय क्रिकेट बोर्ड को कमाई होते देख कर पाकिस्तान को मिर्ची लगने लगी है. पीसीबी ने इसको लेकर खुलकर विरोध करना भी शुरू कर दिया है. इतना ही नहीं पीसीबी आईपीएल की विंडो हर साल ढाई महीने के लिए बढ़ाए जाने के बीसीसीआई के फैसले के खिलाफ अन्य देशों के साथ मिलकर लामबंदी भी शुरू कर चुका है.

IPL आयोजन पर PCB ने बनाई अड़ंगा लगाने की योजना, अन्य देश के क्रिकेट बोर्ड को भी कर रहा है शामिल

कुछ दिनों पहले बीसीसीआई सचिव जय शाह ने ऐलान किया था कि आईपीएल में मैचों की संख्या को बढ़ाया जा रहा है. अब एक सत्र का पूरा कार्यक्रम तकरीबन ढाई महीने का होगा. इसको लेकर बीसीसीआई की ओर से भी हरी झंडी मिल गई है. ऐसा बताया गया है कि ढाई महीने तक विदेशी क्रिकेटर के आईपीएल के लिए उपलब्ध रहने में अन्य देशों के क्रिकेट बोर्ड और आईसीसी से बात भी की गई है. लेकिन पाकिस्तानी क्रिकेट बोर्ड को बीसीसीआई की इस योजना से आपत्ति है. 

न्यूज़ एजेंसी पीटीआई की खबर के मुताबिक एक रिपोर्ट में पीसीबी सूत्रों के हवाले से कहा गया कि आईसीसी बोर्ड की बैठक बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान जुलाई में होगी और इस मसले पर बात की जाएगी. पीसीबी अधिकारियों को भारतीय क्रिकेट में पैसा आते देखना अच्छा नहीं लग रहा. आईपीएल के लिए हर साल शीर्ष क्रिकेटरों को पूरी तरह से बुक करने की बीसीसीआई की योजना का अंतरराष्ट्रीय द्विपक्षीय श्रृंखलाओं पर विपरीत असर पड़ेगा. बता दें कि आईपीएल से अन्य देशों के क्रिकेटर और बोर्ड को काफी काफी कमाई होती है. लेकिन पाकिस्तानी क्रिकेटर इससे वंचित रह जाते है. मुंबई में 2008 में आतंकी हमले के बाद पाकिस्तानी खिलाड़ियों के आईपीएल में खेलने पर बैन लगा दिया गया था.

From around the web