सालों बाद छलका विराट कोहली का दर्द, बोले- उस समय किसी ने मुझ पर भरोसा नहीं किया था, सबने कर दिया था नजरअंदाज!

सालों बाद छलका विराट कोहली का दर्द, बोले- उस समय किसी ने मुझ पर भरोसा नहीं किया था, सबने कर दिया था नजरअंदाज!
 
सालों बाद छलका विराट कोहली का दर्द, बोले- उस समय किसी ने मुझ पर भरोसा नहीं किया था, सबने कर दिया था नजरअंदाज!

आईपीएल की शुरुआत 2008 में हुई थी. आईपीएल के पहले सीजन से लेकर अब तक विराट कोहली आरसीबी के साथ जुड़े हुए हैं. विराट कोहली ने 2008 में मलेशिया में आईसीसी अंडर-19 विश्व कप के दौरान फ्रेंचाइजी के साथ करार किया था, जिते भारतीय टीम ने जीता था. उस समय हर फ्रेंचाइजी के पास दो अंडर-19 खिलाड़ियों को चुनने का विकल्प दिया गया था. लेकिन आरसीबी के अलावा किसी ने भी विराट पर भरोसा नहीं जताया था.

सालों बाद छलका विराट कोहली का दर्द, बोले- उस समय किसी ने मुझ पर भरोसा नहीं किया था, सबने कर दिया था नजरअंदाज!

विराट कोहली ने अब सालों बाद अपना दर्द बयां किया. उन्होंने कहा कि उस समय मुझे कई टीमें चुन सकती थीं. लेकिन उन्होंने मेरा समर्थन नहीं किया. उन्होंने मुझ पर विश्वास नहीं किया. लेकिन पहले 3 सालों में आरसीबी ने मुझ पर जो भरोसा जताया था, वह बहुत खास था. बता दें कि 2008 में आईपीएल के लिए जब ऑक्शन हुआ था तो सबको उम्मीद थी कि दिल्ली फ्रेंचाइजी विराट कोहली को चुनेगी. लेकिन हर कोई हैरान रह गया था, जब दिल्ली फ्रेंचाइजी ने अंडर-19 वर्ल्ड कप विजेता कप्तान विराट कोहली को नजरअंदाज कर प्रदीप सांगवान को चुना था.

हालांकि आरसीबी के लिए खेलते हुए विराट कोहली ने हर सीजन के साथ खुद को साबित किया और यह साबित किया कि बाकी टीमों ने उन पर भरोसा ना करके बड़ी गलती की. आरसीबी ने 2013 में विराट को कप्तान बना दिया. लेकिन विराट अपनी कप्तानी में आरसीबी को एक भी बार खिताब नहीं जीता सके.

विराट कोहली चाहते हैं कि वह जब तक आईपीएल खेलें, आरसीबी के साथ ही जुड़े रहे. विराट कोहली ने हाल ही में खुलासा किया कि मुझसे कई बार संपर्क किया गया कि मैं नीलामी में आऊं. अपना नाम वहां रखूं. लेकिन मैं हर बार इसके बारे में सोचता. मैं आरसीबी के साथ वफादार रहना चाहता हूं. मेरे लिए किसी और की राय मायने नहीं रखती. हर किसी के पास एक संख्या वर्ष है, जो वो जीते हैं और फिर आप मर जाते हैं और जीवन आगे बढ़ता है.

From around the web