Loading...

उत्तर कोरिया में बने इस होटल की पांचवीं मंजिल पर जाने की है सख्त मनाही, जानिए आखिर क्या है इसके पीछे का रहस्य

0 7

उत्तर कोरिया फिर आपने कई तरह के रहस्य समेटे हुए हैं। ना तो यहां के लोगों से बाकी दुनिया की बातें पता होती है। और ना ही बाकी दुनिया को किस देश की बातें पता होती है कुल मिलाकर उत्तर कोरिया को दुनिया का एक ऐसा देश माना जाता है। यूं तो आमतौर पर किसी भी होटल किसी भी फ्लोर पर जाने की मनाही नहीं है। लेकिन उत्तर कोरिया में कैसा होटल है जहां की पांचवी मंजिल पर जाने की सबको मनाई है। क्योंकि इसके साथ ही मंजिल पर एक ऐसा अजीब सा रहस्य छुपा हुआ है।

उत्तर कोरिया के होटल का नाम है। यंगाकडो होटल, जो यहां की राजधानी प्योंगयांग में है। उत्तर कोरिया का सबसे बड़ा होटल है और साथ ही यहां से सातवें और आठवें सबसे ऊंची इमारत यह टाउन नदी के बीच स्थित आईलैंड पर बना हुआ है।

आपको बता दें कि 47 मंजिला इस होटल में कुल 1000 कमरे हैं। इसमें चार रेस्टोरेंट, एक बाउलिंग एले और एक मसाज पॉर्लर भी है। यह होटल उत्तर कोरिया का पहला लग्जरी होटल है। यह होटल उत्तर कोरिया का पहला लग्जरी होटल है। जिसमें एक कमरे का किराया करीबन 25 हजार रुपये हैं। यह 6 साल में बनकर तैयार हुआ था। इसका निर्माण 1986 से शुरू हुआ था और 1992 में बनकर तैयार हो गया था इसे फ्रांस की चैंपियन बनाड़ कंस्ट्रक्शन कंपनी ने बनाया था।

कहते हैं कि होटल के लिए इसमें पांचवी मंजिल का बटन ही नहीं आनी से साफ साफ मतलब है कि लोग पांचवी मंजिल पर नहीं जा सकते हैं। इसको लेकर उत्तर कोरिया ने बेहद ही कड़े और सख्त नियम बनाए हैं उसके मुताबिक अगर कोई भी विदेशी नागरिक पांचवी मंजिल पर जाता है। तो उसे यहां की जेल में हमेशा हमेशा के लिए रहना पड़ता है।

Loading...
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.